कोरोना वायरस को लेकर सरकार बार बार अपने गाइडलाइन में आरोग्य सेतु एप्प डाऊनलोड कर उपयोग करने की सलाह देती है। इसके साथ ही सरकार ने इसे कोरोना संक्रमित मरीजों के ट्रेसिंग ले लिए उपयोगी बताते हुए जनता से डाऊनलोड करने के लिए कहा जिसके बाद करोड़ो भारतीय ने इसे डाऊनलोड भी किया।

Read Also : बिहार चुनाव : औरंगाबाद में बड़ी नक्सली साजिश नाकाम, CRPF ने दो IED किए निष्क्रिय

वही अब आरोग्य सेतु एप्प के बारे में एक चौकाने वाली जानकारी सामने आई है। इससे जुड़ी सरकारी संस्था और मंत्रालय को ही इसकी जानकारी नहीं है। आरोग्य सेतु वेबसाइट पर लिखा है, कि इसे नेशनल इन्फ़ॉर्मेटिक्स सेंटर (NIC) और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने विकसित किया है। लेकिन उनके पास ये जानकारी नही है कि इस एप्प को किसने बनाया है।

दरअसल एक सामाजिक कार्यकर्ता सौरभ दास ने आरटीआई से आरोग्य सेतु के बारे में जानकारी मांगी थीं। जिसके जवाब में आरोग्य सेतु एप्प को किसने डेवलोप किया उसकी जानकारी नेशनल इंफॉर्मेटिक्स सेंटर (NIC) के पास नही थी, और न ही मंत्रालय के पास इसका डेटा है।

Read Also : बीजेपी अध्यक्ष नड्डा बोले- RJD आई तो विकास के कटोरे में छेद हो जाएगा, जनता तय करें हाईवे चाहिए या अपहरण

जिसके बाद मंगलवार को सेंट्रल इन्फॉर्मेशन कमीशन (CIC) नेशनल इंफॉर्मेटिक्स सेंटर (NIC) से जवाब मांगा है कि जब आरोग्य सेतु ऐप की वेबसाइट पर उनका नाम है तो फिर उनके पास ऐप की डेवलपमेंट को लेकर जानकारी क्यों नहीं है? सेंट्रल इन्फॉर्मेशन कमीशन (CIC) ने इससे जुड़े कई चीफ पब्लिक इन्फॉर्मेशन अफसरों समेत इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मिनिस्ट्री और नेशनल इंफॉर्मेटिक्स सेंटर (NIC) को बजह बताओ नोटिस जारी किया है।