जीत के बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी हुई मुस्लिमों पर मेहरबान, क्या जिताने का मिल रहा है तोफा ?

पश्चिम बंगाल (West Bengal) ऐसा राज्य है जो कि हमेशा ही किसी ना किसी बात को लेकर सुर्खियों में ही रहता है! जबकि वहां की सरकार पर आए दिन कोई ना कोई सवाल उठते ही रहते हैं! हालांकि इन सबके बावजूद एक बार फिर से पश्चिम बंगाल के अंदर वही पुरानी पार्टी राज कर रहीं है। वही लोगों ने इस चुनाव में एक बार फिर से टीएमसी (TMC) पार्टी को जबरदस्त वोट देकर जीता दिया तो वही पश्चिम बंगाल में भारतीय जनता पार्टी (BJP) को एक बार फिर से हार का ही सामना करना पड़ गया! और फिर उस समय से पश्चिम बंगाल एक बार फिर से सुर्खियों में बन गया !

वहीं आपको बता दें कि अक्सर ही पश्चिम बंगाल पर अल्पसंख्यक तुष्टीकरण का आरोप लगता ही रहा है! हालाकि उन पर ताजा आरोप यह है कि पश्चिम बंगाल पुलिस मित्र अल्पसंख्यक समाज के लोगों को ही नौकरी दी गई है! हाल ही में पश्चिम बंगाल की पुलिस में भर्ती हुए सभी लोगों की मेरिट लिस्ट जारी की गई है जो कि सोशल मीडिया पर भी काफी वायरल हो रही है। बता दे कि इस मेरिट लिस्ट में 50 लोगों के नाम हैं जो कि पश्चिम बंगाल पुलिस में सेवा के लिए भर्ती हुए है!

जबकि माना यह भी जा रहा है कि सोशल मीडिया पर पश्चिम बंगाल की यह लिस्ट अब सुर्खियों का विषय बनी हुई है क्योंकि इस लिस्ट में नजर आ रहे नाम एक ही समुदाय से हैं। तो वही अब पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर ऐसे में मुस्लिम तुष्टीकरण का आरोप लग रहा है! बता दे कि पच्छिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (West Bengal CM Mamata Banerjee) जब साल 2011 में सत्ता में आई थी तो उन्होंने इमामो को ₹2500 प्रति महीने भत्ता देने का भी ऐलान किया था!

Leave a Comment