Vocal फोर लोकल फेल, चीनी कंपनी को मेट्रो रेल सुरंग बनाने का 1126 करोड़ का ठेका

इस ठेके के तहत एसटीईसी न्यू अशोक नगर और साहिबाबाद के बीच 5.6 किलोमीटर लंबे टनल का निर्माण करेगी। इस ठेके के लिए पांच कंपनियों ने बोली लगाई थी, लेकिन सबसे कम 1,126 करोड़ की बोली एसटीईसी की थी।

चीनी मल्टीनेशनल सिविल कंस्ट्रक्शन फर्म शंघाई टनल इंजीनियरिंग कंपनी लिमिटेड (STEC) ने भारतीय कंपनी को पीछे छोड़ दिल्ली-मेरठ रैपिड ट्रांजिट कॉरिडोर का ठेका हासिल कर लिया है। इस ठेके के तहत एसटीईसी न्यू अशोक नगर और साहिबाबाद के बीच 5.6 किलोमीटर लंबे टनल का निर्माण करेगी। इस ठेके के लिए पांच कंपनियों ने बोली लगाई थी, लेकिन सबसे कम 1,126 करोड़ की बोली एसटीईसी की थी।

निविदा प्रक्रिया में कुल पांच राष्ट्रीय और बहुराष्ट्रीय बोलीदाताओं ने भाग लिया था। एलकिन सबसे कम दाम की बोली लगाकर एसटीईसी ने इसे हासिल कर लिया। NCRTC द्वारा बताई गई वित्तीय बोलियों के परिणामों के अनुसार, सभी बोलीदाताओं की स्थिति निम्नानुसार है:

शंघाई टनल इंजीनियरिंग कंपनी लिमिटेड (STEC): 1,126 करोड़ (L-1)
लार्सन एंड टुब्रो लिमिटेड (एल एंड टी): 1,170 करोड़ रुपये (एल -2)
गुलेरमक अगिर सनाय इंसात वे ताहुत ए.एस. (गुलेरमक): 1,326 करोड़ (L-3)
टाटा प्रोजेक्ट्स लिमिटेड- SKEC JV: 1,346 करोड़ (L-4)
Afcons इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड .: 1,400 करोड़ (L-5)

NCRTC ने पिछले साल नवंबर में पहले भूमिगत नागरिक निर्माण पैकेज के लिए वैश्विक बोलियां आमंत्रित की थीं और इस अनुबंध पैकेज के लिए तकनीकी बोलियां 16 मार्च 2020 को खोली गई थीं। कंपनी दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ आरआरटीएस कॉरिडोर पर टीबीएम द्वारा कट और कवर विधि का उयोग करते हुए न्यू अशोक नगर से साहिबाबाद यूपी रैंप तक ट्विन टनल को डिज़ाइन और उसका निर्माण करेंगी। इसके अलावा कंपनी आनंद विहार में एक अंडरग्राउंड स्टेशन का निर्माण भी करेगी।

NCRTC द्वारा स्वीकृति पत्र (LoA) जारी करने के बाद, STEC को 1095 दिनों में न्यू अशोक नगर और साहिबाबाद के बीच सुरंग बनाने का काम पूरा करना है। कांट्रैक्ट की शर्तों के अनुसार, टनल का काम टीबीएम द्वारा कट और कवर विधि के माध्यम से ही किया जाएगा।

Leave a Comment