आपको शायद याद होगा कि पिछले साल जब देश के अंदर कोरोनावायरस महामारी ने दस्तक दी थी, तो उस समय निजामुद्दीन मरकज का मामला देश में काफी जोर-शोर से चल रहा था! यही नहीं बल्कि बताया ये भी जाता है कि इस मकसद में देश-विदेश से लोग भी आए थे! लेकिन चर्चा में ये उस समय आ गया है जब इसके अंदर लोग अधिक संख्या में कोरोना संक्रमण से पॉजिटिव पाए गए थे!

बता दे कि उसके बाद से ही चारों ओर सिर्फ और सिर्फ मरकज की खबरें ही चलाई जा रही थी। जहां से भी कोरोनावायरस महामारी के मामले सामने आ रहे थे वहीं से मदद का मामला भी सामने आ रहा था! वही ऐसे में उत्तर प्रदेश की सरकार ने मरकज से रवाना हुए राज्य की ओर लोगों पर कार्यवाही भी की थी!

वही ऐसे में इनके ऊपर ये आरोप लगा था कि मरकज में पहुंचे सभी लोग अलग-अलग हिस्सों में पहुंच गए थे जिसके चलते कोरोनावायरस के मामले लगातार से ही बढ़ते जा रहे थे!

लेकिन वही अब इस मामले को करीब 1 साल बीत चुका है और अब 1 साल के बाद दिल्ली हाईकोर्ट ने एक बार फिर से निजामुद्दीन मरकज को खोलने की बात कही है! बता दे कि इस मामले को लेकर वक़्फ़ बोर्ड ने दिल्ली हाई कोर्ट के अंदर एक याचिका भी दायर की थी!

ऐसे में अब इस याचिका के ऊपर सुनवाई करते हुए दिल्ली हाईकोर्ट ने वक्फ बोर्ड को बड़ी राहत देते हैं और साथ ही अब एक बार फिर से मरकज को खोलने की इजाजत भी दे दी!