यूपी पुलिस ने गैंगस्टर को पकड़ा, बीच रास्ते कूदकर भागा, बाद में थाने से ही चुरा लिया स्कॉर्पियो

उत्तर प्रदेश पुलिस. विकास दुबे वाली घटना के बाद से तो खबरों में छा चुकी है. हर दिन पुलिस की कार्रवाई का कोई न कोई मामला आ ही जाता है. अभी जो मामला हम बताने जा रहे हैं, वो अलीगढ़ पुलिस से जुड़ा हुआ है. हुआ ये कि अलीगढ़ पुलिस ने हाल ही में एक काले तेल के माफिया बबलू प्रधान को गिरफ्तार किया था, लेकिन थाने पहुंचते साथ ही वो भाग गया. इतना ही नहीं, बबलू कुछ देर बाद लौटा और थाने में खड़ी अपनी स्कॉर्पियो लेकर फरार हो गया. वो अभी तक गिरफ्त में नहीं आया है. इसी वजह से अलीगढ़ पुलिस और यूपी सरकार को ट्विटर पर काफी घेरा भी जा रहा है.

फरार होने वाले दिन की कहानी

बबलू अलीगढ़ के इगलास थाने के तहत आने वाले गांव मोहकमपुर का रहने वाला है. काले तेल का माफिया है. हत्या की कोशिश समेत 10 आपराधिक मामले बबलू के खिलाफ दर्ज हैं. लॉकडाउन के पहले पुलिस ने बबलू के तेल के एक गोदाम पर छापेमारी की थी. वहां से भारी मात्रा में स्प्रिट और काला तेल बरामद हुआ था. बबलू की गिरफ्तारी होनी थी, जो कि हुई 24 जुलाई को.

इगलास पुलिस उसे गिरफ्तार करके उसकी ही स्कॉर्पियो में बैठाकर थाने लाई, जहां से मौका मिलते ही वो थाने की दीवार फांदकर भाग गया. पुलिस उसकी तलाश में जुट गई. इधर थोड़ी देर बाद बबलू थाने आया और अपनी स्कॉर्पियो लेकर फरार हो गया. घटना के बाद से ही हड़कंप मचा हुआ है. पुलिस जांच में जुटी है.

अलीगढ़ के सुपरिटेंडेंट ऑफ पुलिस (ग्रामीण) अतुल शर्मा ने कहा कि जिसकी भी लापरवाही मिलेगी, उसके खिलाफ एक्शन होगा.
उत्तर प्रदेश कांग्रेस ने ट्वीट करके योगी आदित्यनाथ सरकार पर निशाना साधा है. रिटायर्ड IAS अधिकारी सूर्य प्रताप सिंह ने भी ट्वीट कर यूपी सरकार और पुलिस पर तंज कसा है.

काला तेल का मामला

इगलास कस्बा जो है, वो मथुरा के काफी करीब है. मथुरा में ऑयल रिफाइनरी है. रिफाइनरी में जब तेल रिफाइन हो जाता है, तो बचता है काला तेल. सूत्रों के हवाले से पता चला है कि इगलास में कुछ अवैध गोदाम बने हैं, जो अवैध तरीके से इस काले तेल को लेकर आते हैं और इसे फिर से रिफाइन करते हैं. उसके बाद इसे बेचा जाता है. कई लोगों ने इससे अवैध तरीके से बहुत रुपए कमाए हैं.

Leave a Comment