फेक टीआरपी (TRP) मामले में मुंबई पुलिस की अपराध शाखा ने शनिवार को मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट कोर्ट को बताया कि रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क (Republic TV) और न्यूज़ नेशन के मालिक को और अन्य वरिष्ठ अधिकारी इस टीआरपी (TRP Scam) घोटाले में आरोपी पाए गए हैं।

यह भी पढ़ें : भोजपुरी में अश्लीलता पर बोलना रवि किशन को पड़ा भारी, यूज़र्स बोले खुद अश्लीलता फैलाने वाला, आज साधु बन गया।

मुंबई पुलिस ने अदालत को सूचित किया कि टीआरपी (TRP) नंबरों की कथित आर्टिफिशियल स्पाइकिंग के मामले में गिरफ्तार किये गए लोगों से लगातार पूछताछ की गई जिसमें उनकी भूमिकाओं की जनकारी सामने आई है

मुंबई पुलिस ने कोर्ट को बताया है कि इस मामले में अब तक कुल नौ लोगों की गिरफ्तारी की जा चुकी है. जिसमें से हंसा रिसर्च ग्रुप (Hansa Research Group) के दो लोगों रामजी वर्मा (44 वर्षीय) और दिनेश विश्वकर्मा (37 वर्षीय) को इस दौरान कोर्ट में पेश भी किया गया। कोर्ट ने 20 अक्टूबर को गिरफ्तार किये गए दोनों शख्सों को जेल भेज दिया है।

यह भी पढ़ें : MP उपचुनाव : हार के डर से कांग्रेस नेता का पैर पकड़ गिड़गिड़ाने लगे BJP के मंत्री

वहीं मुंबई पुलिस ने इस दौरान यह भी दावा किया है कि पूछताछ में सामने आया है कि एक अभिषेक कलावाडे और उसके साथियों द्वारा रिपब्लिक टीवी (Republic TV), न्यूज नेशन (News Nation) और महामूवी (Maha Movie) चैनलों से कथित तौर पर पैसे लिए जाते थे। रिपब्लिक टीवी के संस्थापक और एडिटर इन चीफ अर्नब गोस्वामी (Arnab Goswami) पर टीआरपी के मामले में एक और सुनवाई हुई. कोर्ट इस मामले में अगली सुनवाई 7 नवंबर को करने वाली है।

शनिवार को एनएम पुलिस स्टेशन में रिपब्लिक के कर्मचारियों, वरिष्ठ सहयोगी शवन सेन और कार्यकारी सहयोगी निरंजन नारायण स्वामी से पूछताछ की गई।  उनके खिलाफ कथित तौर पर मुंबई पुलिस को बदनाम करने का एक अन्य मामला दर्ज हैं।

यह भी पढ़ें : Surat: भाजपा नेता पीवीएस शर्मा के घर आयकर विभाग का छापा, 80 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त