कोरोनावायरस से लड़ने के लिए अंतरराष्ट्रीय मीडिया में भी हो रही केरल मॉडल की चर्चा

भारत में कोरोनावायरस के संक्रमण के शुरुआती मामले केरल से ही सामने आए थे जब जनवरी महीने के अंत में 3 भारतीय छात्र चीन के वुहान शहर से केरल लौटे तो जांच में कोरोनरी पाएंगे केरल में कोरोनावायरस का सफर सबसे पहले शुरू हुआ और बहुत ही तेजी से बड़ा लेकिन यहां उसकी रफ्तार बढ़ने नहीं दी गई|

केरला में फिलहाल कोरोनावायरस संक्रमण के 404 मामले हैं यहां कोरोनावायरस संक्रमण से 3 मौतें हुई हैं जबकि 250 प्लस मरीज ठीक हो चुके हैं यू कहे तो केरल में रिकवर हुए मरीजों का प्रतिशत पूरे भारत में सबसे ज्यादा है दक्षिण भारत के इस राज्य में पिछले कई दिनों से कोरोनावायरस के नए मामलों की तुलना में रिकवर होने वाले लोगों की संख्या ज्यादा होने का ट्रेंड बरकरार है यही वजह है कि अंतरराष्ट्रीय मीडिया में भी केरल मॉडल की चर्चा हो रही है मार्च महीने की शुरुआत में बीबीसी न्यूज़ टॉक शो में केरल की कोरोनावायरस की सफलतापूर्वक रोकथाम को लेकर केरल की सराहना की गई इसी सप्ताह वॉशिंगटन पोस्ट ने भी कोरोनावायरस की चुनौती से निपटने में केरल को पूरी पूरी दुनिया के लिए मिसाल बताया विश्व स्वास्थ्य संगठन पहले केरल को शाबाशी दे चुका है|

केरल में आक्रामक तरीके से को रोना संक्रमण की जांच कांटेक्ट ट्रेसिंग लंबी अवधि का क्वॉरेंटाइन हजारों प्रवासी मजदूरों को सरल और जरूरतमंदों को खाना खिलाने जैसे तमाम कदम कोरोनावायरस से लड़ाई में सरदार साबित हुए केरल में विदेशी पर्यटक बड़ी संख्या में आते हैं और प्रवासियों की संख्या भी ज्यादा है ऐसे में केरल को कोरोनावायरस अंतर्मन का सबसे ज्यादा खतरा था लेकिन केरल की बाम पंथ सरकार ने इस खतरे को भांपते हुए बहुत अच्छे तरीके से लोगों को कोरेंटिन किया और सही तरीके से इलाज किया इसलिए केरल की विश्व भर में चर्चा हो रही है|

केरल ने कोरोनावायरस संक्रमण को लेकर लोगों के मन से डर को भी निकालने की कोशिश की केरल का अपना एक परिवार इटली से लौटा था लेकिन उन्होंने अपने ट्रैवल हिस्ट्री छिपा ली थी इसके लिए सोशल मीडिया पर इस परिवार की खूब आलोचना हुई लेकिन राज्य सरकार ने काउंसलर अपने परिवार से नियमित संपर्क किया और इस टैबू को तोड़ने की कोशिश की सरकार ने शुरू से ही लोगों को इस लड़ाई में शामिल किया|

विदेशी मीडिया वॉशिंगटन पोस्ट ने लिखा है कि केरल की सफलता की कहानी भारत सरकार के लिए काफी सकारात्मक भूमिका अदा कर सकती है भारत में बड़े पैमाने पर लॉक डाउन कर दिया गया है लेकिन इसके बावजूद कोरोनावायरस के मामलों में कोई कमी देखने को नहीं मिल रही केरल ने कोरोनावायरस को रोकने के लिए शुरूआत से ही सक्रियता दिखाई राज सरकार ने तेजी से संक्रमण के मामलों की पहचान की और सामाजिक सहयोग जैसे कदम उठाए केरल कोरोनावायरस की रोकथाम में पूरे देश के लिए एक मॉडल हो सकता है|

आपको बता दें कि पूरे देश में कोरोना संक्रमण के 16000 से ज्यादा मामले हो चुके हैं इसमें सबसे ज्यादा महाराष्ट्र, दिल्ली ,मध्य प्रदेश, तमिलनाडु, गुजरात और राजस्थान जैसे राज्य हैं|

Leave a Comment