लॉकडाउन में छह जिलों की पुलिस को चकमा दे स्कूटी से 127 किलोमीटर पहुंची युवती, प्रेमी को उठा ले गई

एक युवती लॉक डाउन के दौरान छह जिलों की पुलिस को चकमा देकर 127 किलाेमीटर दूर स्‍कूटी से पहुंची और अपने प्रेमी को उठाकर अपने साथ स्‍कूटी पर ही ले गई। इस घटना के खुलासे से पुलिस भौंचक्‍की रह गई। दरसल पानीपत का युवक अपनी प्रेमिका को मोहाली छोड़ आया। प्रेमिका को यह नागवार गुजरा। इसके बाद उसने प्रेमी को खुद लेकर आने की ठान ली और यह कदम उठा लिया|

उसने पहले मोहाली पुलिस से गुहार लगाई कि प्रेमी को ढूंढ़े। पुलिस ने लॉकडाउन का हवाला देकर मना कर दिया। प्रेमिका ने खुद प्रेमी को ढूंढऩे का निश्चय किया। वे चंडीगढ़ सहित छह जिलों की पुलिस को गच्चा देकर 167 किलोमीटर दूर स्कूटी से पानीपत की पावर हाउस कॉलोनी पहुंची।

स्थानीय पुलिस को प्रेमी के घर के सामने भूख हड़ताल पर बैठने की चेतावनी दी। पुलिस में सकते आ गई। पुलिस प्रेमी को ढूंढ़ा, लेकिन नहीं मिला। प्रेमी ने मोबाइल फोन भी बंद कर रखा था। प्रेमिका ने दो दिन तक अपने प्रेमी को तलाशा और साथ ले गईं। इसके बाद ही पुलिस ने राहत की सांस ली।

आठ मरला चौकी के प्रभारी राजबीर ङ्क्षसह ने बताया कि मोहाली की युवती कोमल सिलाई सेंटर चलाती है। सात महीने पहले पॉलीटेक्निक का कोर्स अधूरा छोड़े चुका पावर हाउस कॉलोनी का लक्ष्यदीप दिल्ली में नाटक का मंचन करने गया था। वहीं पर कोमल भी थी। दोनों में प्रेम हो गया और वे साथ में रहने लग गए। युवती दावा करती रही कि दोनों ने विवाह कर लिया है। लेकिन वे विवाह से संबंधित दस्तावेज नहीं दिखा पाई। एक सप्ताह पहले लक्ष्यदीप युवती को मोहाली छोड़ घर लौट आया था।

कोमल ने दो दिन तक लक्ष्यदीप को मोहाली में ढूंढा। सुराग नहीं मिला। फिर वह स्कूटी से 31 मार्च की रात को वहां से चली। 40 से ज्यादा नाकों पर उसे पुलिस ने रोका। उसने बताया कि पति बीमार है और पानीपत के एक निजी अस्पताल में भर्ती है। वे रोई भी। पुलिस को यकीन हो गया और उसे जाने दिया। वे पावर हाउस कॉलोनी में लक्ष्यदीप के घर पहुंची। वहां पर नहीं मिला तो शहर में ढूंढने निकल गईं। 1 अप्रैल को वह लक्ष्यदीप को साथ ले गई।

Leave a Comment