सर्वे में बड़ा खुलासा देश के 60 प्रतिशत लोगों की राय, मोदी सरकार ने चीन को नहीं दिया मुंहतोड़ जवाब

बीते 15 जून की रात को पूर्वी लद्दाख के गलवान घाटी में चीनी सेना के साथ हिंसक झड़प में एक अधिकारी सहित 20 भारतीय जवानों की शहादत पर पूरे देश में गुस्से की लहर है। एक सर्वे के अनुसार अधिकतर भारतीयों को लगता है कि मोदी सरकार ने चीन को मुंहतोड़ जवाब नहीं दिया। सारे पोल मोदी के खिलाफ नजर आए चाहे वह सरेंडर मोदी भले ही पोल क्यों ना हो

भारत और चीन के बीच सीमा विवाद में 20 भारतीय जवानों की शहादत के बाद मोदी सरकार की कार्रवाई से अधिकांश भारतीय संतुष्ट नहीं हैं। ज्यादातर भारतीयों को नहीं लगता कि सरकार ने लद्दाख की गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प के बाद चीन को मुंहतोड़ जवाब दिया है, जिसमें 20 भारतीय सैनिक शहीद हुए हैं

यह बात आईएएनएस सी-वोटर स्नैप पोल में सामने आई है। यह सर्वेक्षण 10 हजार लोगों से की गई बातचीत पर आधारित है। सर्वे में लोगों से प्रश्न पूछा गया कि, क्या आपको लगता है कि मोदी सरकार ने चीन को जवाब देने के लिए उपयुक्त कदम उठाए हैं? इस पर 60.2 प्रतिशत लोगों ने अपने उत्तर में कहा, “नहीं, चीन को अभी भी मुंहतोड़ (माकूल) जवाब नहीं मिला है।” शेष 39.8 प्रतिशत लोगों का मानना है कि सरकार ने चीन को मुंहतोड़ जवाब दिया है।

उत्तरदाताओं में विभिन्न उम्र, धर्म, शिक्षा और विभिन्न सामाजिक स्तर के लोग शामिल रहे, जिनका मानना है कि चीन को भारत से यथोचित जवाब नहीं मिला है। वहीं सर्वे में देखा गया कि महिलाओं की अपेक्षा अधिक पुरुष चाहते हैं कि चीन को माकूल जवाब दिया जाना चाहिए। चीन को करारा जवाब नहीं दिए जाने पर सिख सबसे अधिक नाराज दिखे।

अगर विभिन्न आय वर्ग की बात करें तो मध्यम वर्ग ड्रैगन को माकूल जवाब दिए जाने को लेकर सबसे अधिक मुखर है। इसके अलावा निम्न और उच्च आय वर्ग में से क्रमश: 57.5 प्रतिशत और 51.1 प्रतिशत लोगों को लगता है कि चीन को बेहतर जवाब दिए जाने की आवश्यकता है। अगर इस मामले में मध्य आय समूह की बात आती है, तो यह संख्या 68.1 प्रतिशत हो जाती है

सर्वे में सामने आया कि जो लोग जितना अधिक शिक्षित हैं, उतनी ही दृढ़ता से वे कार्रवाई की मांग करते दिख रहे हैं। हालांकि सभी इस बात पर एकमत हैं कि चीन को उसकी आक्रामकता के बाद वह जवाब नहीं मिला, जिसका वह हकदार है। सर्वे में यह बात सामने आई कि यूपीए के मतदाता बीजेपी के नेतृत्व वाली एनडीए के मतदाताओं की तुलना में चीन को भारत की ओर से माकूल जवाब नहीं दिए जाने को लेकर अधिक नाराज हैं।

सभी सामाजिक समूहों से लेकर विभिन्न धार्मिक वर्गों से जुड़े सभी लोग चीन को सबक सिखाने के लिए कह रहे हैं। लेकिन एकमात्र ईसाई समुदाय के लोग हैं, जो सोचते हैं कि चीन को भारत की ओर से माकूल जवाब मिल गया है। विभिन्न वर्गों में से केवल दो वर्गों में ऐसा अपवाद देखने को मिला। सर्वे में 60 वर्ष से ऊपर के लोग और ईसाई सोचते हैं कि चीन को भारत की ओर से करारा जवाब दिया गया। कुल 68.1 प्रतिशत वरिष्ठ नागरिकों और 79.2 प्रतिशत ईसाई उत्तरदाताओं ने जोर दिया कि मोदी सरकार ने वास्तव में चीन को करारा जवाब दिया है

बता दें कि पूर्वी लद्दाख क्षेत्र की गलवान घाटी में चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के सैनिकों के साथ हिंसक झड़प के दौरान 15 जून की रात को एक अधिकारी सहित 20 भारतीय जवान शहीद हो गए थे। इस घटना के बाद से पूरे देश में गुस्से की लहर है।

Leave a Comment