सुप्रीम कोर्ट ने किया आरक्षण को रद्द ,मच गया बेहद बवाल..

देश के अंदर सरकारी जॉब से लेकर कई तमाम चीजों में आरक्षण तो मिलता ही रहता है लेकिन जब भी देश के अंदर इस आरक्षण को हटाने की बात होती है तभी कोई ना कोई सामने खड़ा होकर इसका विरोध करने लग जाता है! हालांकि, आरक्षण देश का एक ऐसा बुनियाद हिस्सा बना दिया गया है जिससे कि मजबूत पक्ष भी खोखला होता जा रहा क्योंकि यदि किसी के अंदर एबिलिटी है और वह जनरल यानी कि सामान्य जाति के लोगों के साथ कंपटीशन कर सकता है और इस आरक्षण के बोझ के तले वो भी दब जाता है!

वहीं आपको बता दें कि अब इसी आरक्षण को लेकर एक ऐसी खबर सामने आ रखी है। वही खबर कुछ इस प्रकार है कि आरक्षण को हटा दिया गया है लेकिन किस का अर्थ हटाया है यह भी जानना बहोत जरूरी है! सोशल मीडिया पर मिल रही जानकारी के मुताबिक हम लोग वी द पीपल नामक यूजर ने इस बात की जानकारी को शेयर किया है!

उन्होंने इस जानकारी को शेयर करते हुए लिखा है कि सुप्रीम कोर्ट ने मराठा आरक्षण को रद्द कर दिया है! साथ ही एक सवाल भी खड़ा कर दिया है कि जिसमें उनका मानना है कि फडणवीस के समय सड़कों पर उतरे मराठा मोर्चा पवार साहब की तीसरी के खिलाफ सामने आएंगे या चुप रहेंगे?

वही आपकी जानकारी के लिए आपको बता दें कि देश के सर्वोच्च न्यायालय ने यह फैसला बुधवार को लिया है। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने मराठा समुदाय को नौकरी और साथ ही आरक्षण देने की महाराष्ट्र कानून को रद्द कर दिया है! सुप्रीम कोर्ट ने इस कोटे को खत्म करते हुए कहा है कि आरक्षण की अधिकतम सीमा 50% से अधिक बिल्कुल भी नहीं हो सकती है। वही अदालत का ये भी कहना है कि यह समानता के अधिकार का उल्लंघन करता है!

Leave a Comment