दुनिया भर में जारी कोरोना महामारी के बीच रेलवे मंत्रालय ने प्लेटफार्म टिकट की कीमतों में बढ़ोतरी कर दी है। मंत्रालय का ये कहना है कि यह अस्थायी फैसला है जो कि यात्रियों की सुरक्षा और साथ ही स्टेशनों पर ज्यादा भीड़ के जमा होने से रोकने के लिए लिया गया है। वही इस फैसले के बाद अब जिस प्लेटफार्म टिकट की कीमत 10 रुपये हुआ करती थी उसकी कीमत अब 30 रुपये हो गई।

DRMs की है स्टेशनों पर भीड़ के प्रबंंधन की जिम्मेदारी

वही इस ऐलान के साथ मंत्रालय ने ये बताया कि स्टेशनों पर लोगों की भीड़ को नियंत्रित करना डिविजनल रेलवे मैनेजरों (DRMs) की जिम्मेदारी है। साथ ही ये भी कहा, ‘यह अस्थायी फैसला है और सभी यात्रियों के हित में रेलवे प्रशासन के द्वारा लिया गया है ताकि स्टेशनों पर जो भीड़ होती है उसे रोका जा सके।’ मंत्रालय ने ये भी बताया, ‘स्टेशन पर ज्यादा लोगों के आने से भीड़ हो जाती है और इसे रोकने के लिए समय समय पर प्लेटफार्म के टिकट के कीमत को बढ़ाया जाता है। यह अधिकार उक्त स्टेशन के DRMs कर है।’ वही इस तरह के फैसले कई सालों से हालात के मद्देनजर लिए जाते रहे हैं। इसमें कुछ भी नया नहीं है। वही इससे पहले भी रेलवे ने कम दूरी तय करने वाली ट्रेनों की टिकट की भी कीमतों पर बढ़ोतरी की थी ताकि सभी गैरजरूरी सफर को रोका जा सके।

महामारी के वजह से प्लेटफार्म टिकट की बिक्री पर भी लगी थी रोक

आपको बता दें कि कोरोना संक्रमण को बढ़ते देखते हुए एक साल पहले प्लेटफार्म टिकट की सुविधा को भी बंद किया गया था। इससे केवल यात्रा करने वाले ही स्टेशन पर जा सकते थे और साथ ही भीड़ जमा होने पर भी रोक थी। लेकिन अब जहां हर काम फिर से सामान्य हो रहा है वहीं इस सुविधा को भी एक बार फिर से बहाल किया गया है लेकिन एहतियात के साथ। पिछले साल यानि 2020 में कोरोना महामारी मै लॉकडाउन से पहले भीड़ को रोकने के लिए 18 से 22 मार्च के बीच इसकी कीमत बढ़ाकर 50 रुपये भी किए गए थे। इसके बाद प्लेटफार्म पर भीड़ में बेहद कमी आई हुई थी। वही जिन्हें यात्रा करनी होती थी उनके साथ काफी कम लोग ही आते थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here