दो नंबर से लखनऊ के चौधरी चरण सिंह अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का संचालन अडानी ग्रुप ने संभाल लिया। अदानी ग्रुप के पास इन एयरपोर्ट की जिम्मेदारी अगले 50 साल तक होगी। अडानी समूह के अधिकारी एयरपोर्ट के प्रबंधन विकास और वित्तीय मामलों के सभी फैसले लेंगे।

वहीं निजी हाथों में एयरपोर्ट का कमान देने से पहले शनिवार को एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया की टीम ने लखनऊ पहुंचकर चौधरी चरण सिंह अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट का जायजा लिया था। उसके बाद ही आज एयरपोर्ट की कमान अडाणी ग्रुप को सौंपी गई।

चौधरी चरण सिंह एयरपोर्ट के निजी हाथों में सौंप पर जाने पर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने ट्वीट करके भाजपा पर निशाना साधा है। प्रियंका गांधी ने अपने ट्वीट में लिखा- भाजपा का जनता को दीवाली का गिफ्ट : भयंकर महंगाई, भाजपा का अपने पूंजीपति मित्र को दीवाली गिफ्ट : 6 एयरपोर्ट। पूजीपतियों का साथ, पूंजीपतियों का विकास।

बता दे कि 34 साल पुराने इस हवाई अड्डे को सरकारी और खास उद्योगपतियों के इस्तेमाल के लिए सन 1986 में बनाया गया था। जबकि 17 जुलाई 2008 को यात्रियों के लिए शुरू किया गया था। उसके बाद मई 2012 में लखनऊ एयरपोर्ट को अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट का दर्जा मिला।

वर्तमान में चौधरी चरण सिंह एयरपोर्ट से लगभग 160 विमानों का यहां से संचालन होता है। और 55 लाख से ज्यादा यात्री सालाना यहां से सफर करते हैं। लखनऊ के चौधरी चरण सिंह एयरपोर्ट के लिए अडानी ग्रुप जो करार हुआ है। उसने शुरुआती 3 साल अदानी समूह के अधिकारी एयरपोर्ट प्रशासन के साथ काम करेंगे। सुरक्षा व्यवस्था की कमान पहले की तरह केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल के जवान ही संभालेंगे।

फायर फाइटिंग सिस्टम और इंजीनियरिंग सेवाएं भी अडाणी समूह के अधिकारी संभालेंगे। जानकारी के मुताबिक अभी एयरपोर्ट पर कोई भी सुविधा शुल्क नहीं बढ़ाया जाएगा। एयरपोर्ट पर सुविधाओं के विस्तार की योजना है। जानकारी के मुताबिक लखनऊ एयरपोर्ट पर दिल्ली एयरपोर्ट के तर्ज पर मुफ्त पिक और ड्राफ्ट सेवा भी उपलब्ध कराई जा सकती है।