जहाँ पर एक तरफ पूरी दुनिया इस समय वैक्सीन के लिए हाथ फैला रही है, तो दूसरी ओर हिंदुस्तान के इन राज्यों में बर्बाद हो रहीं हैं वैक्सीन..

Corona Vaccine : आपको बता दें कि भारत में कोरोना संक्रमण की बढ़ती रफ्तार के बीच बड़े पैमने पर टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है। तो वही अब तक तकरीबन 13 करोड़ टीके केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा राज्यों को दिए जा चुके हैं। जबकि अब तक के आंकड़ों के अनुसार , सबसे अधिक महाराष्ट्र को 1 करोड़ 29 लाख से भी अधिक टीके मिले हैं। जबकि इसके बाद उत्तर प्रदेश के खाते में एक करोड़ 17 लाख टीके मिले हैं।

बता दे कि कोरोना टीकाकरण में एक बात की चिंता केंद्र सरकार को अभी सबसे अधिक सता रही है। और वह है इसका वेस्टेज। आंकड़ों पर अगर नजर दौड़ाएं जाए तो फिर तमिलनाडु में सबसे अधिक कोरोना की वैक्सीन बर्बाद हो रही है। यहां तकरीबन 11 प्रतिशत से भी अधिक कोरोना की वैक्सीन बर्बाद हो रही है। इसके बाद आता है हरियाणा का नंबर , जहां पर लगभग 10.5 प्रतिशत टीके व्यर्थ जा रहे हैं। हालांकि केंद्र सरकार लगातार राज्यों से वैक्सीन की बर्बादी को रोकने की भी अपील कर रही है।

जबकि इसके अलावा मणिपुर में लगभग 8.4 प्रतिशत, जबकि पंजाब में 7.88 प्रतिशत, वही बिहार में 7.33 और साथ ही असम में 6.62 प्रतिशत कोरोना की वैक्सीन बर्बाद हो रही है। वही अगर राजस्थान की बात करें तो फिर यहां 6.32 प्रतिशत और साथ ही उत्तर प्रदेश में 5.27 प्रतिशत कोरोना की वैक्सीन बर्बाद हो रही है।

भारत में लोगों को कोविड-19 टीकों की अब तक 11.70 करोड़ से भी ज्यादा खुराक दी जा चुकी है जबकि देशभर में कोविड-19 के टीकों की बृहस्पतिवार तक 11.70 करोड़ से भी अधिक खुराक दी गई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस बारे में जानकारी दी है । मंत्रालय ने बताया है कि इनमें 26,02,375 खुराक बृहस्पतिवार को रात के 8 बजे तक दी गई। इसने बताया कि अभी करीब 67,400 कोविड टीकाकरण केंद्र संचालित किये जा रहे हैं।

आपको बता दें कि मंत्रालय के रात 8 बजे तक की अस्थायी रिपोर्ट के अनुसार देश में कोविड-19 टीकाकरण अभियान शुरू होने से लेकर अब तक इसकी 11,70,96,037 खुराक दी जा चुकी है। मंत्रालय के अनुसार इनमें 90 लाख से भी अधिक स्वास्थ्य कर्मियों को पहली खुराक, जबकि 56 लाख से भी अधिक स्वास्थ्य कर्मियों को दूसरी खुराक, अग्रिम मोर्चे के 1,02,90,850 कर्मियों को पहली खुराक और 51,51,557 को दूसरी खुराक दी जा चुकी है।

इसके अलावा आपको बता दें कि , 45 से लेकर 60 वर्ष की आयु के बीच के 3,86,76,098 लाभार्थियों को पहली खुराक दी जा चुकी है , जबकि 9,84,785 को दूसरी खुराक दी गई है। वहीं, 60 वर्ष से अधिक आयु के 4,41,90,147 लोगों को पहली खुराक और साथ ही 30,86,465 को दूसरी खुराक दी गई है।

Leave a Comment