मुजफ्फरपुर में एक दंपति ने ट्रेन के आगे आकर अपनी जान दे दी. इससे ठीक पहले बेटे को बोला कि तुम घर जाओ. बेटा जैसे ही आगे बढ़ा…पहले मां ट्रेन के आगे कूदी, उसके ठीक बाद पिता कूद गया. बेटा ये सारा नजारा अपनी आंखों के सामने देखता रहा. फिर उसने घर के अन्य सदस्यों को बुलाया. घटना सकरा थाना क्षेत्र के चंदनपट्टी गांव में मंगलवार की है।  

यह भी पढ़ें :  वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के नए पैकेज पर बोले पी चिदंबरम कहा- खोदा पहाड़, निकली चुहिया

मंगलवार दोपहर ढोली और दुबहा रेलवे स्टेशन के बीच मिश्रौलिया गुमटी संख्या 158-2 के पास दोनों ने मालगाड़ी के सामने कूद कर जान दे दी. दोनों की मौके पर ही मौत हो गई. दीपक और रिंकू के इकलौते बेटे ने बताया कि दोपहर में जब घर आया तो मम्मी-पापा लड़ रहे थे. मारपीट भी की।

बाद में दोनों निकले और कहा, चलो तुम जीकर क्या करोगे. मैं भी साथ चल दिया। पटरी के पास पहुंचे तो कई बार आपस में बात की। इसे जीने दो। फिर कहा, जिंदा रहकर क्या करेगा। साथ ही मर जाएगा तो ठीक है। फिर कहा, टॉस कर लो। टॉस के बाद मां ने कहा, बच गया।

फिर पापा ने तीस रुपये दिए और कहा, बेटा जाओ तुम जीओ अभी। उधर से ट्रेन आ रही थी। पहले पापा और फिर मम्मी ट्रेन के आगे कूद गई। मैं डर से रोते हुए घर आ गया. घटना के ठीक बाद बड़ी संख्या में आसपास के लोग जमा हो गए। लोगों ने तत्काल इसकी सूचना पुलिस का दी। पुलिस शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए एसकेएमसीएच भेज दिया।

यह भी पढ़ें :  बेगूसराय : BJP नेता वंदना सिंह का केंद्रीय मंत्री गिरिराज पर जुबानी हमला, कहा वो तो दोमुंहा सांप है

इस संबंध में सकरा पुलिस ने बताया कि आत्महत्या का मामला है। परिवार के सदस्यों से पूछताछ में भी पता चला है कि दोनों के बीच लगातार लड़ाई होती रहती थी। इसी से तंग आकर दोनों ने आत्महत्या की है। सकरा के प्रभारी रामनाथ प्रसाद ने कहा कि परिवार की ओर से किसी ने शिकायत दर्ज नहीं कराई है। पुलिस अपने स्तर से मामले की छानबीन कर रही है। पुलिस ने बच्चे के हवाले से भी आत्महत्या की बात कही है। 

यह भी पढ़ें : जबलपुर : दो युवकों ने ऑटो चालक को बुरी तरह पीटा, दोनों पैर तोड़े