ओवैसी की पार्टी के साथ चुनाव लड़ने की खबर को लेकर मायावती ने कर दिया ये बड़ा ऐलान,, कहा- यूपी और उत्तराखंड में वो …

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश में साल 2022 की शुरूआत में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। इस बीच बहुजन समाज पार्टी (BSP) की अध्यक्ष और साथ ही उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने एक बड़ा ऐलान कर दिया है। बहुजन समाज पार्टी के अध्यक्ष मायावती ने कहा है कि, वो उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में BSP किसी पार्टी के साथ गठबंधन नहीं करेगी। साथ ही ओवैसी की पार्टी AIMIM के साथ गठबंधन की खबरों को मायावती ने पूरी तरह से गलत बताया है।

वही एक के बाद एक कई ट्वीट करते हुए मायावती ने कहा है कि BSP और AIMIM के बीच गठबंधन की खबरें पूरी तरह से झूठी हैं। उन्होंने इसे गलत, भ्रामक और साथ ही तथ्यहीन बताया है।

बहुजन समाज पार्टी के अध्यक्ष मायावती ने अपने ट्वीट में लिखा है कि , ‘मीडिया के एक न्यूज चैनल में कल से यह खबर प्रसारित की जा रही है कि उत्तर प्रदेश में आने वाले विधानसभा आमचुनाव औवेसी की पार्टी AIMIM और बीएसपी मिलकर लड़ेगी।लकिन यह खबर पूर्णतः गलत, भ्रामक और तथ्यहीन है। इस खबर में रत्तीभर भी सच्चाई नहीं है और BSP इसका जोरदार खंडन करती है।’

आपको बता दें, हाल ही में बहुजन समाज पार्टी (BSP) ने पंजाब में अकाली दल के साथ गठबंधन किया है। वहीं मायावती ने कहा कि, ‘पंजाब को छोड़कर, उत्तर प्रदेश और उत्तराखण्ड में अगले वर्ष के प्रारंभ में होने वाला विधानसभा चुनाव का यह आमचुनाव बीएसपी (BSP) किसी भी पार्टी के साथ कोई भी गठबंधन करके नहीं लड़ेगी अर्थात अकेले ही लड़ेगी।’

वही आपको बता दें कि इस बार AIMIM जो कि असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी है वो भी उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव लड़ने वाली है। ओवैसी ने बाकायदा कुछ क्षेत्रीय दलों के साथ गठबंधन भी कर लिया है। चुनाव में ओवैसी की नजर पिछड़ा समाज और साथ ही मुस्लिम वोट बैंक पर है।

साल 2019 के लोकसभा चुनाव में सपा और साथ ही बसपा ने गठबंधन किया था। जिसमें दोनों ही पार्टियों को पूरी तरह से नुकसान हुआ था। इससे पहले भी अखिलेश यादव की सपा ने पहले ही ऐलान कर दिया है कि वो ना तो कांग्रेस पार्टी और साथ ही ना ही वो BSP के साथ उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के में गठबंधन करेंगे।

अखिलेश यादव ने ये जरूर कहा है कि वो इस बार क्षेत्रीय दलों के साथ गठबंधन करेंगे। वहीं भारतीय जनता पार्टी भी अपने पुराने सहयोगियों को मनाने में जुटी हुई है। हाल ही में बीजेपी नए सिरे से NDA सहयोगियों के साथ बातचीत शुरू कर आगे की रणनीति बना रही है।

Leave a Comment