लखनऊ में अफसर ने की खुदकुशी: डिप्टी कमिश्नर ने खुद को गोली मारकर किया सुसाइड, इस वजह से था काफी डिप्रेशन में…

लखनऊ में अफसर ने की खुदकुशी : आपको बता दें कि इस वक़्त एक बड़ी खबर सामने आ रही है जहां पर डिप्टी कमिश्नर ने खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली है. वही इस पूरी घटना के बाद से हड़कंप मच गया है. बता दे कि इस पूरे मामले की जानकारी जैसे ही पुलिस को मिली तो आनन फानन में घटनास्थल पर पहुंचकर तुरंत जांच शुरू कर दी गई. पुलिस को मौके से कोई भी सुसाइड नोट नहीं मिला है. पुलिस ने उनकी लाइसेंसी पिस्टल को अपने कब्जे में ले लिया है. फिलहाल पुलिस आत्महत्या के कारणों का पता लगाने की कोशिश कर रही है.

दरअसल, आपको बता दें कि वाराणसी में जीएसटी विभाग में तैनात डिप्टी कमिश्नर संजय शुक्ला ने लखनऊ स्थित अपने फ्लैट में गोली मारकर आत्महत्या कर ली. वही सूचना मिलने पर ACP गोमती नगर और साथ ही फॉरेंसिक टीम ने घटनास्थल का निरीक्षण किया. बताया ये भी जा रहा है कि 6 मई को उनके फ्लैट में करीब 25 लाख के जेवर और साथ ही नकदी की चोरी हुई थी. वही उस चोरी के बाद उनका पत्नी से झगड़ा भी शुरू हुआ, जो कि बढ़ता ही चला गया। मिली जानकारी के मुताबिक सोमवार रात भी दोनों के बीच विवाद हुआ. हालांकि विवाद शांत होने के बाद फिर दोनों ने खाना खाया. इसके बाद दोनों फिर सोने चले गए. और फिर रात लगभग 12 बजे संजय ने अपनी लाइसेंसी रिवाल्वर से खुद को गोली मार ली. सूत्रों के मुताबिक , चोरी के बाद से ही संजय काफी डिप्रेशन में थे.

बता दे कि परिजनों से जानकारी मिलते ही पुलिस पहुंची तो खून से लथपथ संजय को लोहिया अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. आपको बता दें कि पुलिस का कहना है कि परिजनों की तरफ से अभी तक कोई भी तहरीर नहीं मिली है. सूचना और साथ ही घटनास्थल मुआयना के आधार पर मामले की जांच की जा रही है. पुलिस मृतक के कॉल डिटेल को भी खंगाल रही है.

आजमगढ़ के रहने वाले थे संजय शुक्ला

आपको बता दें कि मूल रूप से आजमगढ़ के रहने वाले संजय शुक्ला की बनारस में तैनाती थी। जबकि उनका परिवार गोमतीनगर के सरयू अपार्टमेंट में रहता है। परिवार में उनकी पत्नी हैं। कोविड-19 कि वजह से कुछ दिनों से संजय भी अपने परिवार के साथ ही रह रहे थे। मिली जानकारी के मुताबिक 4 मई को संजय अपने परिवार के साथ आजमगढ़ गए थे। लौटने पर उन्हें ये पता चला कि उनके फ्लैट में चोरी हो गयी। इसमें उनका काफी सामान और साथ ही जेवर भी गायब हुए था। वही इस घटना के संबंध में संजय शुक्ला ने कमिश्नर डीके ठाकुर से भी मुलाकात की थी। इसके साथ ही वे खुलासा करने वाली टीम को 50 हजार रुपए अपनी तरफ से इनाम देने की बात कही थी। वारदात से वह काफी डिप्रेशन में थे।

इस आर्टिकल को शेयर करे

Leave a Comment