Kolkata High Court Desicion: कोलकाता हाई कोर्ट Kolkata High Court ने एक जज को एक केस से हटाने की मांग को लेकर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी West Bengal CM Mamata Banerjee पर 5 लाख रुपये का जुर्माना लगा दिया है. पश्चिम बंगाल के सीएम ममता बनर्जी West Bengal CM Mamata Banerjee ने एक मामले में कोलकाता हाईकोर्ट के जज कौशिक चंद Kolkata High Court Judge Koshik Chand को हटाने की मांग की थी। इसके साथ ही सीएम ममता बनर्जी CM Mamata Banerjee ने जज कौशिक चंद Koshik Chand पर बीजेपी Bjp से भी संबंध रखने का आरोप लगाया था.

तृणमूल कांग्रेस TMC प्रमुख की अर्जी को खुद Kolkata High Court के Judge जस्टिस कौशिक चंद Justice Koshik Chand ने खारिज कर दिया था। आपको बता दें कि इस पूरे मामले से जुड़े कुछ लोगों का कहना है कि जस्टिस कौशिक चंद Justice Koshik Chand ने अपने निजी विवेक के आधार पर मामले की आगे सुनवाई नहीं करने का फैसला किया है. इसके अलावा मामले को उसकी बेंच से भी अलग कर दिया गया है।

दरअसल, आपको बता दें कि नंदीग्राम विधानसभा सीट Nandigram Vidhanshaba Seat पर अपनी हार को सीएम ममता बनर्जी CM Mamata Banerjee ने बीजेपी के शुभेंदु अधिकारी Bjp Neta Suvendu Adhikari के खिलाफ कोलकाता हाईकोर्ट Kolkata High Court में चुनौती दी है.

वही इस पूरे मामले की सुनवाई कौशिक चंद Justice Koshik Chand की बेंच कर रही थी. इस पर पश्चिम बंगाल के सीएम ममता बनर्जी West Bengal CM Mamata Banerjee ने उन्हें केस से अलग करने की मांग की थी। उन्होंने कहा था कि जस्टिस कौशिक चंद Justice Koshik Chand के बीजेपी Bjp से संबंध थे।

इस मांग पर कोलकाता हाई कोर्ट Kolkata High Court ने सीएम ममता बनर्जी CM Mamata Banerjee पर 5 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है. वहीं, अपने विवेक से उन्होंने खुद मामले से हटने का फैसला किया है।

बता दे कोर्ट ने ममता बनर्जी Mamta Banerjee पर जुर्माना लगाते हुए कहा है कि , ‘ममता बनर्जी ने इस मांग के जरिए न्यायपालिका की छवि खराब करने की कोशिश की है. उन पर लगाई गई जुर्माने की राशि कोरोनावायरस से प्रभावित सभी वकीलों के परिवारों के कल्याण के लिए खर्च की जाएगी. वही सीएम ममता बनर्जी पर जुर्माना लगाने के कोर्ट के फैसले पर अब तक ममता बनर्जी की कोई भी प्रतिक्रिया सामने नहीं आई है.