अपने ही गढ़ में घिरते जा रहे ज्योतिरादित्य सिंधिया, बीजेपी में जाकर नहीं मिल रही इज्जत? निगमकर्मी ने चिपकाए आपत्तिजनक पोस्टर

कांग्रेस छोड़ बीजेपी में शामिल होने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया इन दिनों सुर्खियों में हैं। राजनीतिक गलियारों में चर्चा है कि कुछ लोग उनके बीजेपी में जाने से खुश है तो कुछ को उनका यह फैसला रास नहीं आ रहा। यही वजह है कि जिस सिंधिया राजघराने के बारे में 

ग्वालियर चंबल अचल में लोग कुछ बोलने से डरते थे उनके खिलाफ लोग आज खुलकर बगाबत पर उतर आए हैं। कभी होर्डिंग बैनर से नाम गायब होता है तो कभी कांग्रेस नेता उनके लापता होने के पोस्टर चिपकाते हैं।

इसी कड़ी में गुरुवार को एक निगम कर्मी ने सिंधिया के खिलाफ आपत्तिजनक पर्चे छपवाकर चिपका दिये। पर्चे में बाल्मीकि समाज के नेताओं के खिलाफ भी आपत्तिजनक बातें कही गई है। इस मामले में कोतवाली में FIR दर्ज कराई गई है।

पर्चे के सबसे नीचे अशोक धवल, WHO( वार्ड हेल्थ ऑफिसर) गड्डे वाला मोहल्ला, लक्षमणपुरा पड़ाव लिखा है। पर्चे चिपकने की सूचना मिलते ही सिंधिया समर्थक बाल्मीकी समाज के नेता इकट्ठे हो गए और उन्होंने महाराज बाड़े पर लगे पर्चे फाड़ दिये। सभी नेता हुजरात कोतवाली पहुंचे  और पुलिस के सामने शिकायत दर्ज कराई। 

जानकारी के अनुसार, गुरुवार को शहर के अलग अलग जगह इमारतों पर अभद्र भाषा का प्रयोग करते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य के खिलाफ लिखा गया था। पर्चे में बाल्मीकि समाज के आठ नेताओं के बारे में आपत्तिजनक भाषा का प्रयोग करते हुए सिंधिया पर उन्हें संरक्षण देने के आरोप लगाए।

इन पर्चों के सबसे नीचे अशोक धवल, WHO( वार्ड हेल्थ ऑफिसर) गड्डे वाला मोहल्ला, लक्षमणपुरा पड़ाव लिखा है। इस बात की जानकारी जैसे ही सिंधिया समर्थक बाल्मीकि समाज को लगी तो उन्होंने महाराज बाड़े पर लगे पर्चे फाड़ दिये।

Leave a Comment