Israel-Palestine Conflict: इजराइल-फिलिस्तीन विवाद के दौरान भारत ने किया था ऐसा काम की इजराइल दूतावास ने हाथ…

Israel-Palestine Conflict: आपको बता दें कि इजराइल की तरफ से किया गया एक ट्वीट भारत में कथित लिबरल गैंग को पचाना बेहद मुश्किल हो रहा होगा । हमास और इजराइल के बीच चले मा’मले में भारतीयों की तरफ से इजराइल को सम्पूर्ण रूप से पूरा समर्थन मिला। तो वही अब इजराइली दूतावास ने हिंदी में धन्यवाद लिखकर भारत का शुक्रिया अदा किया।

हिंदी में “धन्यवाद” लिख, और साथ ही भारत का किया शुक्रिया

इजराइल ने अपने मित्र देशों और वहां के लोगों के द्वारा मिले समर्थन पर धन्यवाद कहा है। बता दें कि इसी के तहत इजराइल ने भारत के लोगों को इस मा’मले में साथ देने के लिए दिल से शुक्रिया कहा है। वही इस से संबंधित इजराइली दूतावास ने एक फोटो भी ट्वीट किया। जिसमें की हिंदी में धन्यवाद लिखा हुआ है। आपको बता दें कि इस तरीके से इजराइल ने सभी भारतवासियों को दिल से धन्यवाद कहा है। नई दिल्‍ली में स्थित दूतावास की तरफ से एक ट्वीट के जरिए कहा गया है कि हमास की तरफ से रॉकेट की शुरुआत से ही हमें जिस तरह का समर्थन मिला, उसके लिए हम अपने दोस्‍तों और साथ ही सभी फॉलोअर्स का धन्‍यवाद करते हैं। बता दें दूतावास की तरफ से शेयर की गई तस्‍वीर में कई भाषाओं में थैंक्यू लिखा है। जिसमें हिंदी में भी ‘धन्‍यवाद’ लिखा हुआ है। वही इस्राइल के तरफ से यह ट्वीट 21 मई को किया गया था।

डीसीएम ने की ट्वीट

बता दे कि भारत में डेप्‍युटी चीफ ऑफ मिशन (DCM) रोनी येदिदिया क्‍लीन ने मुख्य तौर पर भारत के लोगों को शुक्रिया कहा है। साथ ही वे अपने एक ट्वीट में लिखते हैं कि, “भारत के प्‍यारे मित्रों, पिछले 12 दिनों में जिस तरह से आपका साथ मिला है, उसके लिए धन्यवाद। इसमें हमारी मित्रता, हमारी मजबूती और प्रेरणा रही है। इससे इजराइली दूतावास में मुझे और साथ ही मेरे सहयोगियों को इजराइल की रक्षा के हमारे काम में बेहद मदद मिली। आपने इस घड़ी में दिखाया है कि जरूरत के वक्‍त जो साथ दे, वही असली दोस्त होता है। धन्‍यवाद।”

भारतीय यूजर स्वीकार कर रहे स्वागत

इजराइली दूतावास और साथ ही DCM रोनी के इस ट्वीट पर भारत के सोशल मीडिया यूजर्स ने भी दिल खोलकर इसका स्वागत किया है और साथ ही जवाब में अपनी प्रतिक्रिया भी दे रहे हैं। वही भरत सागर नाम के शख्‍स ने लिखा कि ”भारत और इजराइल सिर्फ दोस्‍त ही नहीं, असल में विविधता भरा एक परिवार है। हम रणनीतिक रूप से एक-दूसरे की सामाजिक-आर्थिक प्रगति के साझेदार भर नहीं हैं, बल्कि हर तरह के आ तंकवाद के खिलाफ लड़ाई के लिए समान रूप से प्रतिबद्ध हैं।”

जबकि नरेंदर चौधरी लिखते है कि ”इससे फर्क नहीं पड़ता कि भारत सरकार कागजों पर दोस्ती नहीं दिखती है, लेकिन सभी हिंदुओ, सिखों बुद्ध और जैन का समर्थन इजराइल के साथ है।”

वही सोनू यादव ने भी लिखा हैं कि ”सरकार बाहर से भले कुछ भी दिखाए और भीतर से कुछ और… मगर भारत के लोग इजराइल के साथ हैं, और हमेशा रहेंगे।’

Leave a Comment