IndiGo करेगी अपने कर्मचारियों की छंटनी, Air India की भी हालत खराब जबरन बिना वेतन 6 साल छुट्टी पर कर्मचारी

देश में जारी कोरोना संकट (Coronavirus) के बीच एयरलाइंस कंपनी इंडिगो (IndiGo)अपने 10% कर्मचारियों की छंटनी करेगी. इंडिगो के CEO ने इसकी जानकारी दी. IndiGo के सीईओ रॉन्जय दत्ता ने कहा कि, ‘विमानन कंपनी अपने कार्यबल के 10 प्रतिशत कर्मचारियों की छंटनी करेगा.’ IndiGo के CEO रॉन्जय दत्ता ने कहा, ‘मौजूदा महामारी ने दुनिया भर के कई उद्योगों को प्रभावित किया है, जिनमें से एक विमानन उन क्षेत्रों में से एक है, जो सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं.’

इसी महीने की शुरुआत में इंडिगो ने 2020 के अंत तक डॉक्टरों और नर्सों को हवाई किराये पर 25 प्रतिशत की छूट देने की घोषणा की थी, क्योंकि ये कोरोना वायरस वैश्विक महामारी के खिलाफ लड़ाई में अग्रिम मोर्चे पर काम कर रहे हैं. एयरलाइन ने कहा, ‘नर्सों और डॉक्टरों को चेक-इन के समय अपनी पहचान के सबूत के तौर पर अस्पताल की वैध आईडी दिखानी होगी.’ 

एयर इंडिया जबरन कर्मचारियों को भेजेगी छुट्टी पर

एयर इंडिया (Air India) अपने कर्मचारियों को 6 महीने से लेकर 60 महीने की leave Without Pay पर भेजने की तैयारी कर रही है. इसके लिए एयर इंडिया बोर्ड की मंजूरी मिल गई है. बोर्ड ने चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर को एयर इंडिया के कुछ स्टाफ को बिना वेतन के पांच साल तक के छुट्टी पर भेजने की सिफारिश करने की इजाजत दे दी है. योजना के तहत एयर इंडिया (Air India) के कर्मचारियों को 6 महीने के अवैतनिक अवकाश (Leave Without Pay) पर भेजने के बाद इसे 60 महीने यानी 5 साल तक के लिए बढ़ाया जा सकता है.

पहले 2 साल, फिर 5 वर्ष तक के लिए बढ़ाई जा सकती है छुट्टी

आधिकारिक आदेश में कहा गया है कि एयर इंडिया के सीएमडी राजीव बंसल अब कर्मचारियों को छह महीने से दो साल की अवधि के लिए छुट्टी पर भेज सकते हैं. इसे पांच साल तक के लिए बढ़ाया जा सकता है. बताया जा रहा है कि एयरलाइन संकट से उबरने और लागत घटाने के लिए ये स्कीम लेकर आई है. बता दें कि एयर इंडिया ने यह कदम ऐसे समय उठाया है, जब केंद्र सरकार एयरलाइन को बेचने की कोशिश कर रही है. फिलहाल एयरलाइन की बिक्री प्रक्रिया कोरोना वायरस प्रकोप के कारण अधर में लटक गई है.

Leave a Comment