AURANGABAD : आपको बता दें कि बिहार पुलिस ने सेक्स रैकेट के धंधे का पर्दाफाश किया है. वही इस जिस्मफरोशी के धंधे में शामिल एक आशा कार्यकर्ता को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया है, जो कि बहुत ही चालाकी से सेक्स रैकेट के धंधे का संचालन करती थी. आरोपी आशा कार्यकर्ता को गिरफ्तार कर पुलिस आगे की कार्रवाई में जुट गई है. वही अब पुलिस उसके पूरे गिरोह के बारे में जानकारी जुटा रही है.

बता दे कि ये पूरा मामला बिहार के औरंगाबाद जिले का है, जहां पर रफीगंज थाना की पुलिस ने सेक्स रैकेट के धंधे का पर्दाफाश किया है. जिस्मफरोशी के धंधे में शामिल एक आशा कार्यकर्ता को गिरफ्तार भी किया गया है. बताया ये भी जा रहा है कि आशा कार्यकर्ता ट्रेनिंग के नाम पर नाबालिग बच्चियों को ले जाकर उनसे गलत काम करवाती थी. फिलहाल पुलिस ने आरोपी आशा कार्यकर्ता को गिरफ्तार कर उसे जेल भेज दिया है.

वही इस घटना के संबंध में यह जानकारी मिली है कि आरोपी आशा कार्यकर्ता 16 साल की एक मासूम नाबालिग बच्ची से गलत काम करवाती थी. वही जब इस बात की भनक बच्ची की मां को लगी तो उन्होंने तुरंत पुलिस में इसकी शिकायत की. पीड़िता की मां ने पुलिस को बताया कि उनकी बेटी को आशा कार्यकर्ता ट्रेनिंग के नाम पर गांव से बाहर ले जाती थी और साथ ही उससे गलत काम करवाती थी. इसके एवज में आशा कार्यकर्ता कुछ रुपये उनकी बेटी को दे देती थी. इस दौरान उनकी बेटी गर्भवती हो गई. तब आशा ने गर्भपात के लिए उसे पहले दवा खिलाई, जिससे कि उसकी तबीयत बिगड़ गई.

आपको बता दें कि पीड़ित लड़की ने जानकारी देते हुए बताया कि गलत काम करने के दौरान गर्भवती होने पर आरोपी आशा कार्यकर्ता ने उसका गर्भपात कराया. वही रफीगंज थानाध्यक्ष सुनील कुमार पांडेय ने ये जानकारी दी है कि फरार चल रही आशा कार्यकर्ता को गिरफ्तार कर लिया गया है और साथ ही उसे जेल भी भेज दिया गया है.