मध्य प्रदेश के सिवनी भाजपा का ऑडियो वायरल होने के बाद एक बार पिर सियासी पारा चढ़ गया है। ये पहली बार नहीं है जब किसी विधायक या मंत्री का ऑडियो वायरल हुआ इससे पहले भी इस तरह के वीडियो सामने आते रहे हैं। ताजा विडियो में बीजेपी के केवलारी विधायक फोन पर बात करते हुए यह कहते सुनाई दे रहे हैं कि विधायक बनने के लिये के लिये 7 करोड़ रुपये खर्च किये हैं। घास छीलने के लिये विधायक नहीं बना हूं।


बताया जा रहा है यह ऑडियो विधायक जी और एक पुलिस अधिकारी के बीच बातचीत का है। जो अब वायरल हो गया है। जिसमें सिवनी जिले के केवलारी विधानसभा से भाजपा विधायक राकेश पाल बात करते हुए बताये जा रहे हैं। जिसमे माननीय कहते सुनाई पड़ रहे हैं कि 7 करोड रुपए खर्च करके विधायक बना हूं।

विधायक ने एक थाना प्रभारी को हटवाने के लिये पुलिस अधिकारी को फोन किया थाा। पुलिस के उच्च अधिकारी से बात करते हुए विधायक ने लखनादौन थाना प्रभारी नवीन जैन को हटाने की बात कह रहे हैं। वह टीआई नवीन जैन पर गोकशी के मामले में संलिप्तता और जुआ सट्टा के धंधा में शामिल होने का आरोप भी लगा रहे हैं।


ये है ऑडियो क्लिप में


ऑडियो में विधायक ने जिला बीजेपी अध्यक्ष के बारे में भी बोला है। पुलिस अधिकारी को बताते हुए माननीय ने बताया कि नए अध्यक्ष को भी समझा दिया है, कि हम घांस छीलने के लिए जनप्रतिधि नहीं बने हैं, सात करोड़ रुपए खर्च किये हैं तब मैं केवलारी विधानसभा का विधायक बना हुं| अब में जो चाहूंगा मेरी विधानसभा में वही होगा, ज्यादा इंटरफेयर करोगे तो वीडी शर्मा और संगठन मंत्री को शिकायत कर दूंगा, साहब आपको नवीन को हटाना पड़ेगा।


विधायक के इस ऑडियो के वायरल होने बाद चुनाव आयोग के उन दावों पर सवालिया निशान जरूर लग गये है, जिनमें यह कहा जाता है कि चुनाव में खर्च की सीमा तय है और आयोग प्रत्यासियों पर कड़ी नजर रखता है। आखिर प्रदेश के सुदूर जिले की एक विधानसभा में एक प्रत्यासी 7 करोड़ रुपये खर्च कर रहा है तो शहरी विधानसभाओं का क्या होगा। और अगर चुनाव में इतनी बड़ी रकम खर्च होती है तो फिर लोकतंत्र में हम किस मुगालते में जी रहे हैं। हालांकि Newspolitics.in इस ऑडियो की प्रमाणिकता की पुष्टि नहीं करता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here