GDP -23.9 की ख़बर को धूल मिट्टी में मिलाने के लिए क्या किया जाए

क्या कोई ऐसा एक्शन हो सकता है, जैसे किसी की गिरफ़्तारी हो जाए, कुछ घंटे तक एजेंसी के सिपाही दीवार फाँदते रहे, फिर उसे पकड़ कर यहाँ वहाँ ले ज़ाया जाए ताकि विज़ुअल आता रहे, लाइव होता रहे, ताकि कई घंटे तक लाइव कवरेज होने से आज और कल का टाईम निकल जाए ? जैसे चिदंबरम के समय हुआ था जिससे कुछ अभी तक निकला नहीं।

ऐसी किसी घटना उन्हें सुझा दें ताकि प्राइम टाइम कवरेज में ब्रेकिंग न्यूज़ की बाढ़ आ जाए। वैसे ये भी करने की ज़रूरत नहीं है। टीवी वाले वैसे ही सुशांत सिंह राजपूत के कवरेज में डूबे हुए हैं। वहाँ वैसे भी भारत के अर्थव्यवस्था के पतन की कहानी नहीं चलनी है।

जो लोग तालाबंदी के समय ट्विटर पर बिग बॉस से थाली बजाने जैसा
टास्क माँग रहे थे उनकी मदद ली जाए। वो आगे आएँ और लोगों को टास्क दें ताकि अर्थव्यवस्था की बर्बादी की खबर को ग़ायब किया जाए।

(यह लेख रविश कुमार पेज से साभार लिया गया हैं)