खेल चालू: मध्यप्रदेश में 10 किलो के पैकेट में निकल रहा 2 से 3 किलो कम आटा लोगों ने किया हंगामा

कोरोना संक्रमण की महामारी से जूझ रहे भारत जरूरतमंद लोगों के हिस्से के राशन में भी गड़बड़ी करने से अधिकारी नहीं चूक रहे मध्य प्रदेश सरकार द्वारा शुरू की गई 10 किलो आटा देने की योजना के लिए नागरिक खाद आपूर्ति विभाग द्वारा तैयार किए गए 10 किलो आटे के कट्टों में से 2 से 3 किलो तक आटा कम निकल रहा है हालांकि गड़बड़ी पकड़े जाने के बाद 1 किलो आटा कम होने की बात विभाग के अधिकारी खुद स्वीकार कर रहे हैं जिला आपूर्ति नियंत्रण चंद्रभान सिंह ने कहा कि 100 किलो गेहूं देने के बदले फ्लोर मिल संचालकों ने 90 किलो आटा दिया है 10 किलो के पैकेट में कम आटा होने की पहली शिकायत नई सड़क पर हरी निर्मल टॉकीज के सामने स्थित राशन की दुकान की मिली यहां पर एक व्यक्ति ने जब पैकेट का वजन कराया तो वह 8.85 किलो निकला इसके बाद दुकान पर खड़े अन्य परिवारों के सदस्यों ने भी आपत्ति जताते हुए हंगामा कर दिया|

इसी बीच एसडीएम व क्षेत्र के इंसीडेंट कमांडर सी बी प्रसाद मौके पर पहुंचे इन्होंने भी वजन कराया और सूचना प्रशासनिक अधिकारियों को दी बैकेटों में लगातार आटा कब निकलने की शिकायत शुक्रवार को सुबह लश्कर क्षेत्र के लोगों ने विधायक प्रवीण पाठक से कि वे दौलत गंज स्थित एक सेंटर पर पहुंचे तो उनके सामने तबले के पैकेट में भी 7:30 किलो आटा निकला विधायक का कहना था कि गड़बड़ी करने वालों के खिलाफ एफ आई आर दर्ज कराई जा पूर्व विधायक मुन्ना लाल गोयल ने भी कलेक्टर को पत्र लिखकर दोषियों के खिलाफ मामला दर्ज करने का आग्रह किया|

आटा पैकेट का वजन 10 किलो से कम होने की सूचना सोशल मीडिया के माध्यम से मिली है इसकी जांच अपर कलेक्टर पीएन सिंह और संयुक्त कलेक्टर विनोद भार्गव को सौंपी गई है जांच में जो भी दोषी होंगे उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी आपको बता दें कि हाल ही में मध्यप्रदेश में कांग्रेस सरकार गिरी है उसके बाद वहां की मुख्यमंत्री की शपथ शिवराज सिंह चौहान ने ली लेकिन अभी तक मंत्रिमंडल का विस्तार नहीं हुआ है|

इस खबर को लेकर वरिष्ठ पत्रकार अजीत अंजुम ने एक ट्वीट किया है

Leave a Comment