कोरोना: डॉक्टर रह चुके हैं बीजेपी के ये 5 नेता कौन कर रहा है अपनी डिग्री का इस्तेमाल? कौन है नकली?

देश में कई शख्सियत ऐसी है जो डॉक्टरी की पढ़ाई और प्रैक्टिस करने के बाद इस पेशे से अलग हो गए कुछ ने मनोरंजन जगत को चुना तो कुछ राजनीति या फिर किसी दूसरी फील्ड में सक्रिय हो गए| ऐसे बहुत से कलाकार और नेता कोरोना से उपजे संकट के काल में अपने डॉक्टरी अनुभवों का इस्तेमाल मरीजों की सेवा के लिए कर रहे हैं| बीजेपी के 5 बड़े नेता भी राजनीति में आने से पहले डॉक्टरी कर चुके हैं आइए जानते हैं इनमें से कौन नेता इस महामारी में किस तरह से अपनी डॉक्टरी का फर्ज निभा रहे है|

बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा भी डॉक्टर रहे हैं उन्होंने एमबीबीएस और एमएस करने के बाद दिल्ली के हिंदू राव हॉस्पिटल में बतौर मेडिकल ऑफिसर भी अपनी सेवाएं दी है। कोरोनावायरस के इस माहौलमें अभी तक इस तरह की कोई खबर नहीं आई है जिसमें कहा गया है कि वह अपने डॉक्टर के अनुभव का इस्तेमाल मरीजों की सेवा के लिए कर रहे हैं। इस बात को लेकर अक्सर सोशल मीडिया पर लोग उन्हें ट्रोल कर रहे हैं ।

इस परएक ट्विटर यूजर ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए लिखा “यह देखिये दुनिया का 8 वां अजुबा, पहेले ये फर्जी डोकटर था, फिर ये मास्क सिवने वाला दरजी बना ओर अब नकली बाबा बना है,, सच मे यार ईतनी हंसी तो मुजे कपिल शर्मा के शो मे भी नही आती जितनी ये फोटो देख कर आती हे।

उत्तर प्रदेश के गौतम बुध नगर से बीजेपी सांसद और महेश शर्मा भी डॉक्टर रह चुके हैं। महेश शर्मा के कई अस्पताल भी चलते हैं। उनके सोशल मीडिया के माध्यम से इस तरह की बातें कही जा रही है कि वह संकट की इस घड़ी में अपने अनुभवों का इस्तेमाल करते हुए मरीजों का इलाज भी कर रहे हैं|

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने दिल्ली से ही एमबीबीएस एमडी किया है स्वास्थ्य मंत्री होने के नाते उन पर इस समय काफी जिम्मेदारियां हैं शायद यही इन्हीं व्यस्तता के कारण वह बताओ डॉक्टर लोगों के सेवा के लिए समय नहीं निकाल पा रहे हैं। हालांकि देश के बताओ और स्वास्थ्य मंत्री व देश के मौजूदा हालत में सुधार के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं।

बीजेपी से राज्यसभा सांसद अनिल जैन विधायक रह चुके हैं। राजनीति में आने से पहले बतौर सर्जन काम किया करते थे। सांसद बनने के बाद से ही उन्होंने डॉक्टरी छोड़ दी थी लेकिन कोरोना से इस संकट की घड़ी में भी वह अपने डॉक्टरी अनुभवों का इस्तेमाल कर रहे हैं। लोगों को मेडिकल सलाह देने के साथ ही उनके इलाज की व्यवस्था भी करा रहे हैं।

बिहार के पश्चिमी चंपारण से बीजेपी के लोकसभा सांसद संजय जयसवाल उन्होंने पटना से एमबीबीएस और एमडी की पढ़ाई की है। कुछ सालों तक उन्होंने डॉक्टरी करने के बाद राजनीति में आने का फैसला कर लिया। फिलहाल कोरोना से फैली इस महामारी के बीच अपने अनुभव का इस्तेमाल मरीजों की सेवा के लिए कर रहे हैं।

Leave a Comment