कोरोना: बच्चों को बहलाने के लिए पत्थर उबालती रही रात भर मां, बच्चे तसल्ली खाकर सो गए

कोरोना संकट ने कीनिया में एक महिला को इतना गरीब बना दिया था कि उन्हें अपने बच्चों को बहलाने के लिए पत्थर पकाने का नाटक करना पड़ रहा था 8 बच्चों की मां का नाम पेनिना बहाती किसान है कित शावर पेनिना निरक्षर और विधवा है वह लोगों के कपड़े धो कर अपना और अपने बच्चों का पेट पालते थे लेकिन को रोना संक्रमण फैलने के बाद उनका काम ठप हो गया|

पेनिना के लिए गरीबी और मुश्किलें इतनी बढ़ गई है कि उन्हें अपने बच्चों को खिलाने के लिए खाना नहीं था| इसलिए उन्होंने अपने बच्चों को बाहर लाने के लिए पत्थर मारना शुरू कर दिया पेनिना ने सोचा कि उन्हें कुछ पकाते देख बच्चे खाने के इंतजार में सो जाएंगे उनकी एक पड़ोसन ने इस पूरे वाक्या का वीडियो बना लिया और मीडिया को इस बारे में बता दिया उनकी पड़ोसन उनके बच्चों के रोने की आवाज सुनकर वहां यह देखने पहुंची थी कि उन्हें कोई परेशानी तो नहीं है|

पेनीना की कहानी सुनकर लोगों ने उनके लिए पैसे इकट्ठा किया और उन्हें पूरे केनिया से फोन आने लगे उन्होंने कीनिया के एक टीवी को दिए इंटरव्यू में बताया कि लोगों ने उन्हें मोबाइल ऐप के जरिए पैसे भेजे एक पड़ोसी ने उनका बैंक अकाउंट खुलवाया जिससे उन्हें पैसे मिले|

कीनिया के रेडक्रॉस ने भी उनकी काफ़ी मदद की है. पेनिना कहती हैं कि उन्हें अंदाज़ा नहीं था कि कीनिया के लोग इतने दरियादिल हैं. वो इन सबको ‘एक चमत्कार’ मानती हैं| उन्होंने कीनिया की टुको न्यूज़ वेबसाइट को दिए इंटरव्यू में कहा, “मेरे बच्चों को पता चल गया था कि मैं पत्थर पकाने का नाटक करके उन्हें बहलाने की कोशिश कर रही हूं. लेकिन मेरे पास कोई और विकल्प नहीं था|” पेनिना कीनिया के मोम्बासा शहर में दो कमरों के मकान में रहती हैं. उनके घर में न तो बिजली आती है और न ही पानी|

Leave a Comment