आपको बता दें कि साल 1975 जो कि देश के पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी का शासन काल था उस समय देश के अंदर आपात काल की घोषणा की गई थी! वही अब लगभग 46 साल बाद कांग्रेस पार्टी को इस गलती का एहसास हुआ है! जी हां, कांग्रेस पार्टी के पूर्व अध्यक्ष और वायनाड से सांसद राहुल गांधी ने देश की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की सरकार के समय देश के अंदर आपातकाल लगाए को एक गलती करार दे दिया है! यही नहीं बल्कि उन्होंने कांग्रेस पार्टी की आंतरिक लोकतंत्र पर भी अपनी इस बात को रखा है उनका ये कहना है कि देश में आपातकाल के दौरान जो कुछ भी हुआ वह बिल्कुल गलत हुआ और जो आज हो रहा है उसमें बुनियादी अंतर है!

बता दे कि कॉंग्रेस पार्टी के नेता राहुल गांधी का ये भी का कहना है कि मैं ही यूथ कांग्रेस को स्टूडेंट इलेक्शन में लोकतंत्र लेकर आया हूं! मैंने ही कहने पर आंतरिक चुनाव की प्रक्रिया शुरू की गई थी! वही राहुल गांधी का यह भी कहना है कि आज मेरी अपनी पार्टी के ही लोग मुझ पर निशाना साध रहे हैं! मेरे पास आपके लिए एक सवाल है कि क्या किसी और पार्टी में भी ऐसे ही सवाल पूछे जाते हैं? क्या समाजवादी पार्टी बहुजन समाज पार्टी में भी सिर्फ नेताओं से सवाल पूछा जाता है? ऐसा बिल्कुल भी नहीं है! ऐसे सवाल बस कांग्रेस पार्टी के अंदर ही पूछे जाते हैं? क्योंकि कांग्रेस पार्टी विचारधारा वाली पार्टी है! हमारी विचारधारा संविधान के प्रति है! हमारी विचारधारा समानता पर आधारित है! हमारे लोकतंत्र में लोकतांत्रिक होना कहीं अधिक महत्वपूर्ण है!

आगे कॉंग्रेस नेता राहुल गांधी का कहना है कि मेरी दादी ने कहा था कि साल 1975 में देश पर जो आपातकाल थोपा गया था वो एक गलती थी! आपकी जानकारी के लिए आपको बता दें कि साल 1975 में इंदिरा गांधी के शासनकाल में देश के अंदर आपातकाल की घोषणा हुई थी! वही यह घोषणा इलाहाबाद हाईकोर्ट के उस फैसले के बाद आई थी जिसके अंदर उनको संसदीय चुनाव प्रक्रिया से 6 साल के लिए प्रतिबंधित कर दिया गया था!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here