टीम इंडिया के हेड कोच रवि शास्‍त्री ने कहा कि कोविड संबंधी परेशानियों के चलते उन्‍हें खोना बेहद दुखद है।

पूर्व क्रिकेटर राजेंद्रसिंह जडेजा टीम इंडिया के कोच रवि शास्‍त्री के दोस्‍त थे।

भारतीय क्रिकेट टीम (Indian Cricket Team) के मौजूदा हेड कोच रवि शास्‍त्री (Ravi Shastri) ने पूर्व ऑलराउंडर राजेंद्रसिंह जडेजा (Rajendrasingh Jadeja) के निधन पर श्रद्धांजलि व्‍यक्‍त की है।

सौराष्‍ट्र के पूर्व क्रिकेटर और भारतीय नियंत्रण क्रिकेट बोर्ड यानी बीसीसीआई (BCCI) के रेफरी राजेंद्रसिंह जडेजा का कोरोना वायरस के चलते गत रविवार को निधन हो गया था. वो 66 साल के थे. जडेजा की गिनती घरेलू क्रिकेट के सबसे बेहतरीन स्विंग बॉलिंग ऑलराउंडर्स में होती थी।

जडेजा ने 1974 से 1987 तक प्रोफेशनल क्रिकेट खेला और 22 गज की पिच पर अपने प्रदर्शन से जमकर कोहराम मचाया. रवि शास्‍त्री ने जडेजा के निधन पर शोक व्‍यक्‍त करते हुए कहा कि उन्‍होंने अपना दोस्‍त खो दिया.

टीम इंडिया के हेड कोच रवि शास्‍त्री ने सोशल मीडिया पर राजेंद्रसिंह जडेजा को श्रद्धांजलि देते हुए लिखा, निरलोंस मुंबई और वेस्‍ट जोन के साथी और इतने सालों से दोस्‍त रहे राजू जडेजा को खोना बेहद दुखद है. वो वास्‍तविक जेंटलमैन थे. ईश्‍वर उनकी आत्‍मा को शांति दें।

जडेजा ने सौराष्‍ट्र के तेज गेंदबाजी आक्रमण की एक दशक तक अगुआई की. उन्‍होंने बांबे के लिए कॉरपोरेट क्रिकेट भी खेला. इसके अलावा उन्‍हें दलीप ट्रॉफी में वेस्‍ट जोन के लिए खेलने का मौका भी मिला।

राजेंद्रसिंह जडेजा का करियर

राजेंद्रसिंह जडेजा ने 50 प्रथम श्रेणी मैचों में 134 विकेट हासिल किए जबकि 1536 रन भी बनाए. वहीं 11 लिस्‍ट ए मैचों में उनके नाम 104 रन बनाने के अलावा 14 विकेट भी दर्ज हैं। इतना ही नहीं, जडेजा ने 105 मुकाबलों में बीसीसीआई के मैच रेफरी की भूमिका भी निभाई. इनमें 53 फर्स्‍ट क्‍लास मैच शामिल रहे तो 18 लिस्‍ट ए मैचों में भी उनकी यही जिम्‍मेदारी रही। 34 टी20 मुकाबलों में भी मैच रेफरी रहे।

इसके अलावा जडेजा ने सौराष्‍ट्र की अंडर-23 टीम के कोच की भूमिका भी निभाई. जडेजा सौराष्‍ट्र क्रिकेट एसोसिएशन के सेलेक्‍टर और टीम मैनेजर भी रहे. बीसीसीआई के पूर्व सचिव निरंजन शान ने जडेजा के निधन पर शोक व्‍यक्‍त करते हुए कहा, वो असाधारण काबिलियत वाले क्रिकेटर थे. वहीं सौराष्‍ट्र क्रिकेट एसोसिएशन के अध्‍यक्ष जयदेव शाह ने कहा, ये क्रिकेट जगत के लिए अपूर्णनीय क्षति है