ऐक्टर सोनू सूद को बॉम्बे हाईकोर्ट ने दिया बड़ा झटका, ये है बड़ी वजह…

बॉलीवुड के मशहूर फिल्म अभिनेता सोनू सूद(Actor Sonu Sood) ने कोरोना महामारी (Corona Pandemic) के दौरान पूरी दुनिया को दिखाया कि वह केवल फ़िल्मों में नहीं बल्कि वो एक रियल लाइफ के सुपरहीरो(Superhero) है। वही इस खतरनाक महामारी के दौर में भी वह आम जनता के लिए किसी मसीहा से कम नहीं थे या कहे की उससे भी बढ़कर तो आप भी इससे इत्तेफ़ाक रखेंगे। जहां केंद्र सरकार से लेकर राज्य सरकारें अपने आप को नीचा महसूस कर रही थी। वहीं फिल्म अभिनेता अभिनेता सोनू सूद (Sonu Sood) ने देश के कोने-कोने तक हर एक फरियादी तक सही समय पर उन सभी को मदद पहुँचाई। लेकिन इसके बावजूद भी अब वह सरकार के रडार पर आ गए है।

बॉम्बे हाईकोर्ट(Bombay Highcourt) ने फिल्म अभिनेता सोनू सूद (Sonu Sood) और उनके संस्था(Organisation) के ऊपर दिए जांच के आदेश

आपको बता दें कि जिस तरह से फिल्म अभिनेता सोनू सूद(Sonu Sood) और साथ ही उनकी संस्था(Organisation) ने दवा और इसके अलावा भी कई और अन्य जरूरत की चीजों का इंतजाम किया उसके चलते अब सोनू सूद(Sonu Sood) की मुश्किलें और भी बढ़ती हुई नजर आ रहीं है। वही बॉम्बे हाई कोर्ट(Bombay Highcourt) ने बुधवार को महाराष्ट्र सरकार(Mahrashtra Govt) को ये निर्देश दिया है कि वह विधायक जीशान सिद्दीकी(jeeshan sidique) और साथ ही एक्टर सोनू सूट के ट्रस्ट (Sonu Sood Organisation) सोनू चैरिटी फाउंडेशन(Sonu Charity Foundation) के खि लाफ जांच करे कि आखिर इन लोगों ने बिना लाइसेंस कैसे रेमडिसिवीर इंजेक्शन की सप्लाई की।

कैसे बाटें गए बिना लाइसेन्स रेमडिसिवीर(Remdisivir)

बता दे कि एडवोकेट जनरल(Advocate Genral) आशुतोष कुंबकोनी(Ashutosh kunbkoni) ने जस्टिस एसपी देशमुख(SP Deshmukh) और साथ ही जस्टिस जीएस कुलकर्णी(GS kulkarni) की डिवीजन बेंच को बताया है कि सिद्दीकी के ट्रस्ट बीडीआर फाउंडेशन के ऊपर आप राधिक मुकदमा मजगांव मजिस्ट्रेट के सामने दर्ज कराया गया था, जिस ट्रस्टी ने रेमडिसिवीर (Remdisivir) मुहैया कराया उसके पास लाइसेंस नहीं है। लेकिन कांग्रेस विधायक के खिलाफ कोई केस दर्ज नहीं कराया गया क्योंकि उन्होंने सिर्फ इंजेक्शन की सप्लाई की थी। इस पर कोर्ट ने पूछा है कि आखिर विधायक के ऊपर मुकदमा क्यों दर्ज नहीं किया गया? क्या यह अपराध नहीं है कि आप इंजेक्शन को लेते हैं और फिर इसकी सप्लाई करते हैं। हमारे फैसले से पहले इसकी जांच करिए।

ऐक्टर सोनू सूद और साथ ही विधायक की जांच हो

आपको बता दें कि कोर्ट ने पूछा है कि क्या सिर्फ चैरिटेबल ट्रस्ट के ऊपर ही कार्रवाई करना पर्याप्त था। क्या सिद्दीकी और सोनू सूद की भूमिका की जांच नहीं होनी चाहिए या फिर फिर कोई और भी हैं जो कि इससे जुड़ा हुआ हो।

Leave a Comment