मध्य प्रदेश की 48 विधानसभा सीटों पर हो रहे उपचुनाव में बड़ी जीत हासिल करने के लिए बीजेपी और कांग्रेस फूंक-फूंक कर कदम रख रही है। हर विधानसभा सीट पर दोनों ही पार्टियों की पैनी नजर है। लेकिन कांग्रेस से बीजेपी में आए ज्योतिरादित्य सिंधिया अभी भी सम्मान की तलाश में है। चुनाव के लिए बीजेपी की तरफ से जो घोषणा पत्र जारी किया गया है उसमें भी सिंधिया को जगह नहीं मिल पाई है।

मध्यप्रदेश में 28 सीटों पर चुनाव हो रहे हैं। चुनाव से पहले राज्य में राजनीतिक समीकरण बदल रहे हैं। दोनों ही पार्टियां किसी भी तरह से सत्ता हासिल करने की जुगत में है। कांग्रेस के सामने दोबारा सत्ता हासिल करने की चुनौती है। तो बीजेपी के सामने सत्ता बचाए रखने की चुनौती है। लेकिन कांग्रेस छोड़ बीजेपी में शामिल होने वाले और कांग्रेस की सरकार को गिराने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया के सामने एक अलग ही चुनौती नजर आ रही है।

दरअसल बीजेपी ने 28 सीटों पर हो रहे हो चुनाव के लिए आज अलग-अलग घोषणापत्र जारी किए इन घोषणा पत्रों में बीजेपी ने एक बार फिर सभी को मुफ्त का वैक्सीन देने का वादा किया है। इस घोषणा पत्र के मुख्य पेज से ज्योतिरादित्य सिंधिया का फोटो गायब है। कांग्रेस को जब सिंधिया ने छोड़ा तो उनका दावा था कि पार्टी में उन्हें सम्मान नहीं मिल रहा और सम्मान की तलाश में वो बीजेपी में पहुंच गए।

लेकिन बीजेपी ने उन्हें सम्मान की लड़ाई लड़नी पड़ रही है। बता दे कि जब सिंधिया कांग्रेस में थे, तो स्टार प्रचारक की भूमिका में थे। कांग्रेस के हर बैनर पोस्टर में ज्योतिरादित्य सिंधिया फ्रंट में नजर आते थे। लेकिन जब से सिंधिया की एंट्री बीजेपी में हुई है तब से उन्हें किनारे पर रखा जा रहा है। पहले जहां बीजेपी की हर सभा में सिंधिया को विरोध का सामना करना पड़ा है।

जिसके बाद समर्थकों ने भी नाराजगी देखने को मिली। तो आज भी बीजेपी ने जो घोषणा पत्र जारी किया है उसमें ज्योतिरादित्य सिंधिया की फोटो नदारद है। मतलब सिंधिया को बीजेपी के राजनेताओं में भी जगह नहीं मिल पा रही है। बीजेपी के इस कदम के बाद साफ है, कि बीजेपी ज्योतिरादित्य सिंधिया को किनारे कर रही है, और सिंधिया को वह सम्मान नहीं मिल पा रहा है जो उन्हें कांग्रेस में मिला करता था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here