बिहार विधानसभा चुनाव का शोर इस समय चरम पर चल रहा है। कल दूसरे चरण का प्रचार अभियान भी खत्म हो गया, और पार्टियों के स्टार प्रचारक अब उन विधानसभा सीटों पर चुनाव प्रचार में जुट गए हैं। जहां 7 नवंबर को मतदान है। स्टार प्रचारकों के लिए पार्टियों ने गाड़ियों से लेकर हेलीकॉप्टर तक की व्यवस्था की है।

Read Also : बिहार: छपरा में बोले पीएम मोदी- छठ की तैयारी करो मां, दिल्ली में आपका बेटा बैठा है

रैलियों में सबसे ज्यादा भीड़ आरजेडी नेता और महागठबंधन के सीएम पद के उम्मीदवार तेजस्वी यादव की रैलियों में देखी जा रही है। महागठबंधन का हर उम्मीदवार उनकी सभा अपने क्षेत्र में रखना चाहता है। तेजस्वी अपने उम्मीदवारों को निराश नहीं कर रहे हैं ऐसे में उनके नाम एक रिकॉर्ड दर्ज हो गया है।

आरजेडी नेता तेजस्वी यादव इस समय जल्दबाजी में है, दिनभर एक स्थान से दूसरे स्थान की ओर वह दौर रहे हैं। दिन कम है, और पार्टी का हर उम्मीदवार उनकी रैली अपने क्षेत्र में कराना चाहता है आरजेडी नहीं बल्कि महागठबंधन में शामिल हर दल तेजस्वी से प्रचार कराना चाहता है।

Read Also : MP उपचुनाव : सभा में खाली कुर्सियां देख भड़की उमा भारती, 200 भी नहीं जुटी भीड़, बिना भाषण दिए लौटी

तेजस्वी यादव आरजेडी उम्मीदवारों के साथ ही महागठबंधन में शामिल दलों को भी निराश नहीं कर रहे हैं, वह कभी गाड़ी में बैठ रैली में जाते हुए दिख रहे हैं। तो कभी हेलीकॉप्टर पर सवार होकर, सुबह से लेकर देर रात तक वह पार्टी के लिए चुनाव प्रचार में जुटे हुए हैं। हर दिन उनकी एक दर्जन से ज्यादा रेलिया हो रही है।

रैलियां करने में तेजस्वी के पिता लालू यादव भी किसी से कम नहीं थे। या यूं कहें कि उन जैसा नेता दूसरा नहीं था। लालू यादव के नाम अब तक 1 दिन में सबसे ज्यादा 16 रैलियों को रैली स्थल पर पहुंचकर संबोधित करने का रिकॉर्ड रहा है। लेकिन तेजस्वी यादव ने इस रिकॉर्ड को भी तोड़ दिया है। उन्होंने 1 दिन में 19 रैलियों को संबोधित किया।

Read Also : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण बोली- चालू वित्त वर्ष में GDP की वृद्धि दर नकारात्मक या शून्य के करीब रहेगी

जिनमें से दो सभा बांकेपुर और एक कुमरहाड़ में सड़क मार्ग से चुनाव प्रचार करने पहुंचे तो 17 चुनावी सभाओं को हेलीकॉप्टर के माध्यम से तेजस्वी यादव ने पूरा किया। इस दौरान तेजस्वी का हर अंदाज अलग नजर आ रहा है, चाहे वह हेलीकॉप्टर में चढ़ने उतरने से लेकर दौड़ने और दिनभर की चुनावी सभा पूरी करने की।

तेजस्वी यादव पार्टी के स्टार प्रचारक बन विरोधियों से जवाब तलब करने की हो। हालांकि 10 नवंबर को यह साफ हो जाएगा कि तेजस्वी की मेहनत कितनी सफल रही, क्योंकि इसी दिन बिहार विधानसभा चुनाव के रिजल्ट सामने आएंगे।