उत्तर प्रदेश का भदोही. यहां दो दिन पहले 17 बरस की एक लड़की गायब हो गई थी. अब उस लड़की का शव मिला है. बहुत बुरी अवस्था में. परिवार ने रेप और मर्डर की आशंका जताई है. हालांकि, पुलिस पहली पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में लड़की के डूबकर मरने की बात सामने आई है. आज पांच डॉक्टरों की टीम दोबारा पोस्टमॉर्टम करेगी.

इस मामले के सामने आने के बाद से ही ट्विटर पर लोगों के रिएक्शन्स आने भी शुरू हो गए. भदोही पुलिस इन रिएक्शन्स के जवाब दे रही थी. इसी दौरान पुलिस ने कुछ ऐसा ट्वीट कर दिया, जिसे कुछ ही देर बाद डिलीट करना पड़ गया. और इस वजह से भदोही पुलिस जमकर ट्रोल भी हो रही है.

क्या था वो ट्वीट?
19 अगस्त को रात 11 बजकर 35 मिनट पर पुलिस ने लिखा,
“भदोही की घटना के बारे में जान आपकी रूंह कांप उठेगी. पहले महिला का बलात्कार किया गया. फिर हत्या की, फिर उसे तेज़ाब से नहलाया. क्या हम एक सभ्य समाज के रूप में पूरी तरह विफल हो चुके हैं? क्या हमें खुद को इंसान कहने का हक है? समाज जंगल का रूप ले रहा है और सरकारें मूक दर्शक बनी हुई हैं.”

इस पोस्ट में भदोही पुलिस अपने ही राज्य की सरकार पर सवाल उठा रही थी. खैर, कुछ ही समय बाद इसे डिलीट कर दिया गया. लेकिन तब तक बहुत से लोगों ने इसका स्क्रीनशॉट ले लिया था. जो अब वायरल हो रहा है. ऐसे ही स्क्रीनशॉट वाले पोस्ट पर भदोही पुलिस अब सफाई दे रही है. पुलिस का कहना है कि एक यूज़र को जवाब देते वक्त, उस यूज़र का ही पोस्ट गलती से कॉपी पेस्ट हो गया था.

पुलिस ने लिखा,
“उक्त प्रकरण में श्रीमती रोहिणी सिंह द्वारा ट्विटर पर किए गए कमेंट का जबाब लगाने के लिए पूर्व में लगाये गए कमेंट के जबाब की कॉपी करने में सहबन रोहिणी सिंह का कमेंट ही पेस्ट हो गया है. यह मानवीय भूल है, जिसे डिलीट किया गया है.”

पत्रकार रोहिणी सिंह ने यूपी पुलिस के ‘मानवीय भूल’ वाले पोस्ट पर भी तंज कसा. लिखा,
“महोदय ‘मानवीय भूल’ और ‘संयोग’ उत्तर प्रदेश पुलिस से आजकल बहुत हो रहे हैं. कभी गाड़ियां पलट जाती हैं, कभी ज़िंदा व्यक्ति की हत्या के आरोप में लोग गिरफ़्तार हो जाते हैं, तो कभी ट्वीट गलत पेस्ट हो जाते हैं. कृपया जनता की सेवा करें, मनोरंजन नहीं.”

लोग अब ये सवाल कर रहे हैं कि अगर इस तरह की गलती किसी आम आदमी से होती, तो क्या पुलिस उसे मानवीय भूल मानती, क्या उस व्यक्ति को सफाई पेश करने का मौका देती या फिर तुरंत कार्रवाई करती?

अब बात केस की
बच्ची का शव वरुणा नदी में मिला है. 19 अगस्त की दोपहर को. तब शक जताया गया कि बच्ची का रेप करके उसकी हत्या की गई. उसकी पहचान न हो सके, इसलिए उसके शव को एसिड से जला दिया गया. हालांकि पुलिस की तरफ से रेप की पुष्टि नहीं हुई थी. शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया था. अब इस मामले में ये जानकारी सामने आ रही है कि बच्ची की मौत पानी में डूबने की वजह से हुई थी. भदोही पुलिस ने ट्वीट कर बताया,

“नाबालिग लड़की की मृत्यु पानी में डूबने के कारण हुई. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में दो डॉक्टर्स के पैनल से हुआ खुलासा. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मृत्यु पानी में डूबने से हुई है. मृतका के साथ बलात्कार कर हत्या की पुष्टि नहीं हुई है. आज मृतका के शव का पोस्टमार्टम दोबारा पांच डॉक्टरों के पैनल से होगा.”

हालांकि दोबारा शव का पोस्टमार्टम करवा जा रहा है, ताकि और कन्फर्मेशन आ सके.