अंजना ओम कश्यप को मिला करारा जवाब “नाच मेरी बुलबुल – तुझे पैसा मिलेगा” बोलती हुई बंद

साल 2018 के छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ( Congress) ने शराब बंदी (Liquor ban) को लेकर एक वादा किया था कि हम अगर छत्तीसगढ़ में हमारी सरकार आई तो हम शराबबंदी करेंगे.
इसी को लेकर आज तक के पत्रकार अंजना ओम कश्यप ने एक आर्टिकल शेयर करते हुए लिखा वादा तेरा वादा’ गाना पूरी तरह से भारतीय राजनीति का थीम सॉन्ग है। Bhupesh Baghel जी इससे कैसे अछूते रह सकते है.

इस पर छत्तीसगढ़ कांग्रेस के ट्विटर हैंडल ने अंजना ओम कश्यप पर निशाना साधते हुए लिखा “नाच मेरी बुलबुल- तुझे पैसा मिलेगा” गाना पूरी तरह से आजकल पक्षकारिता का थीम सॉन्ग है। आप पत्रकार हैं, उम्मीद है इससे अछूती होंगी।
रही बात शराबबंदी की तो कर के रहेंगे लेकिन नोटबंदी की तरह नहीं।
1.5 साल की सरकार से सवाल करना आसान है, क्या 6 साल की सरकार से सवाल करने की हिम्मत है?

इसके बाद अंजना ओम कश्यप ने फिर ट्वीट करते हुए लिखा मुझे उम्मीद है @bhupeshbaghel जी कि अपने साथी पत्रकार के लेख में चुनावी वादे के एक सवाल पर महिला पत्रकार के साथ ऐसी भाषा के इस्तेमाल को आपकी स्वीकारोक्ति है। ये ‘नाचने वाली बुलबुल को पैसा’ की भाषा आपकी पार्टी के ट्विटर हैंडल की बीमार मानसिकता दिखाता है! Get well soon.

वही छत्तीसगढ़ कांग्रेस के ट्विटर हैंडल ने गुजरात का एक वीडियो शेयर करते हुए लिखा कांग्रेस की 1.5 साल पुरानी सरकार से शराबबंदी पर सवाल पूछ रहे तथाकथित पत्रकारों का गुजरात के इस विडियो पर कोई ट्वीट आया? जबकि गुजरात “ड्राई स्टेट” घोषित किया जा चुका है। नहीं आएगा कोई ट्वीट,क्योंकि ये एजेंडा के विपरीत है। वैसे तलवारों से केक ही कट रहा है “गुजरात” में, शुक्र है।

अंजना ओम कश्यप खुद को बता चुकी है अंजना ओम मोदी लड़खड़ाई थी जुबान

 आज तक के कार्यक्रम ‘हल्‍ला बोल’ को होस्‍ट करने की शुरुआत करते-करते एंकर अंजना ओम कश्‍यप की जुबान लड़खड़ा गई। उन्‍होंने शुरुआत में कहा, ‘नमस्‍कार आप देख रहे हैं हल्‍ला बोल, आपके साथ मैं हूं अंजना ओम मोद… अम्‍म… अंजना ओम कश्‍यप।” यह कार्यक्रम 29 नवंबर को चैनल पर टेलीकास्‍ट किया गया था। इसमें अंजना से हुई गलती वाले हिस्‍से का वीडियो सोशल मीडिया पर खूब शेयर किया जा रहा है। नौ सेकेंड के इस वीडियो को शेयर करते हुए यूजर्स कश्‍यप पर ‘मोदी भक्‍त’ होने की तोहमत मढ़ रहे हैं। रोशन राय नाम के यूजर लिखते हैं, ”भक्ति का आलम ये है कि भक्त अपने नाम के आगे भी मोदी लगाने लगे हैं।”

Leave a Comment