अमित शाह का कहना है कि “उनकी सरकार ने Lockdown के दौरान मजदूरों के लिए बहुत कुछ किया लेकिन उसे मीडिया में नहीं दिखाया गया. जी हां मीडिया ने तो कुछ दिखाया ही नहीं क्योंकि लोगो को बुलेट ट्रेन से घर पहुँचाया है , और हवाई जहाज से घर पहुँचाया है । इसलिए मीडिया दिखा नही पाई। वह तो भारतीय मीडिया ही है जो कि केंद्र की मोदी सरकार को बचा रही है. वरना हर कोई जानता है कि नेपाल जैसे छोटे देश भारत को लाल आंखें दिखा रहा है उधर चाइना भारतीय जमीन में घुस आई है. वह भारतीय मीडिया ही है जो कि देश की जनता को अहम मुद्दे से भटका कर दिन-रात हिंदू मुस्लिम पाकिस्तान मैं उलझाए हुए रखती हैं.

अमित शाह का कहना है कि मीडिया ने दिखाया नहीं और जिस मीडिया ने दिखा दिया उनका उनका क्या हाल हुआ यह पूरे भारत की जनता जानती है यूपी में जिस पत्रकार ने नमक से रोटी खाते स्कूली छात्रों की रिपोर्ट छपी थी और वीडियो पब्लिश किया था उस पत्रकार के तो एफ आई आर हो जाती है । यूपी में जिस पत्रकार ने कानपुर के छोटी बच्चियों से यौन शोषण के मामले को उठाया उसके ऊपर तो एफ आई आर हो जाती है ।

अमित शाह ने बताया कि श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाई गई इस तरह एक करोड़ से ज्यादा लोगों को देश के एक कोने से दूसरे कोने पहुंचाया गया और सरकार ने ढंग से अपनी जिम्मेदारी को निभाया.

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह का कहना है कि “उनकी सरकार ने Lockdown के दौरान मजदूरों के लिए बहुत कुछ किया लेकिन उसे मीडिया में नहीं दिखाया गया. दरअसल न्यूज़ एजेंसी ANI के साथ एक इंटरव्यू में अमित शाह से सवाल किया गया कि लॉकडाउन के दौरान गरीब प्रवासी मजदूरों के लिए कुछ नहीं किया गया और उन्हें पलायन को मजबूर होना पड़ा और अब सरकार की तरफ से आत्मनिर्भर भारत गरीब कल्याण योजना आदि का ऐलान किया जा रहा है ?

इसके जवाब में अमित शाह ने कहा कि मुझे लगता है कि सरकार के प्रयासों को मीडिया ने नहीं दिखाया जिस दिन से लॉक डाउन हुआ उसी दिन मैंने और प्रधानमंत्री ने सभी राज्यों के सीएम सीएम से बात की की फैक्ट्रियां बंद है तो मजदूरों के लिए खाने पीने की व्यवस्था की जाए इस दौरान 2.5 करोड़ और मजदूरों के खाने पीने की व्यवस्था की गई जिसके लिए सरकार ने एनडीआरएफ द्वारा 11000 करोड़ रुपए की आर्थिक सहायता दी.

भारतीय मीडिया की कुछ चर्चा देखिए आप खुद समझ जाएंगे कि मीडिया ने मोदी सरकार का कितना बचाव किया है भारतीय मीडिया को मोदी सरकार से सवाल करना चाहिए था लेकिन भारतीय मीडिया ने विपक्ष से सवाल किया.

अमित शाह ने बताया कि श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाई गई इस तरह एक करोड़ से ज्यादा लोगों को देश के एक कोने से दूसरे कोने पहुंचाया गया और सरकार ने ढंग से अपनी जिम्मेदारियों को निभाया अमित शाह ने कहा कि दुनिया के कई अन्य देशों की तुलना में भारत में स्थिति काफी बेहतर है गृह मंत्री ने कहा कि देश में कोरोनावायरस से रिकवरी रेट बढ़ रहा है.

पर सच्चाई तो यह है कि एक समय भारत में 500 कोरोनावायरस केस थे वहीं अब भारत कई देशों को पछाड़ते हुए चौथे नंबर पर आ पहुंचा है भारत में करीब 5,30,000 केस हो चुके हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here