शाहजहांपुर के तिलहर में शनिवार को एक बड़ा ही चौकाने वाला मामला देखने को मिला है । यहां चार-पांच लोगों को सांस लेने में जब दिक्कत हुई तो उन सभी लोगों ने आकसीजन सिलेंडर ढूंढना शुरू किया, लेकिन जब उनलोगों को Oxygen Cylinder नहीं मिला तो उन्हें किसी ने बता दिया कि पीपल के पेड़ 24 घंटे ऑक्सीजन देते हैं। इसके बाद 5 मरीज अपने तीमारदारों के साथ तिलहर में गुनगुन मैरिज लॉन वाली रोड पर जाकर एक पीपल के पेड़ के नीचे लेट गए, उन्हें वहां कुछ आराम मिला या नहीं मिला या तो पता नहीं, लेकिन तमाम लोग पीपल के पेड़ के नीचे लेटे मरीजों को देखने के लिए उमड़ पड़े।

आपको बता दें कि तिलहर के मोहल्ला बहादुरगंज निवासी कई परिवारों के लोग करीब 3 दिन से फतेहगंज गैसरा जाने वाली सड़क के किनारे लगे पीपल के पेड़ के नीचे दिन रात पड़े हुए हैं। वही इनकी हालत कई दिन से खराब थी। यह सभी अस्पताल गए, लेकिन एंटीजन जांच में रिपोर्ट निगेटिव आई, लेकिन संक्रमण के सभी लक्षण इन लोगों के अंदर पाए गए थे।

आपको बता दें कि अस्पताल वालों ने रिपोर्ट निगेटिव देखकर इनलोगों को भर्ती करने से भी मना कर दिया और इन सभी लोगों को घर भेज दिया। घर में हालत खराब हो गई। ऑक्सीजन सिलेंडर कहीं मिला नहीं। इस बीच किसी ने इन्हें राय दी कि आप सभी पीपल के पेड़ के नीचे जा कर लेट जाओ तो ऑक्सीजन भरपूर मिलेगी। दो दिन से 5 लोग जहां पीपल के पेड़ के नीचे लेटे हुए हैं, हालांकि उन्होंने यह भी बताया कि उन्हें घर में सांस लेने में ज्यादा दिक्कत थी, लेकिन यहां उन्हें आराम मिला है।

वही इस पूरे मामले की जानकारी मिलने पर तिलहर विधायक रोशनलाल भी पेड़ के नीचे लेटे मरीजों से मिलने के लिए पहुंचे और फिर उन्हें जल्द से जल्द डॉक्टरी सहायता दिलाने के लिए भी उन्होंने अपना प्रयास शुरू किए हैं।